नागरिकता कानून: जामिया में हिंसक प्रदर्शन, 50 छात्रों की रिहाई के बाद तड़के 4 बजे खत्म हुआ धरना, NHRC में दिल्ली पुलिस के खिलाफ शिकायत दर्ज

jamia delhi

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act 2019) के विरोध में रविवार शाम राजधानी दिल्ली के जामिया इलाके में जमकर हिंसा और विरोध प्रदर्शन हुआ। प्रदर्शनकारियों ने कई बसें और बाइक फूंक दी। प्रदर्शन उग्र होता देख उपद्रवियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले भी छोड़े।


छात्रों से झड़प में कई पुलिसकर्मी घायल

पुलिसकर्मियों ने अराजक तत्वों के जामिया मिलिया विश्वविद्यालय में घुसने के संदेह पर कैंपस से सभी छात्रों को बाहर निकाल दिया। पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसक झड़प में कई छात्र और पुलिसकर्मी घायल हो गए। इस घटना में साउथ ईस्ट डीसीपी चिन्मय बिस्वाल, एडिशनल डीसीपी साउथ, 2 एसीबी, 5 एसएचओ और इंसपेक्टर समेत कई पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। विश्वविद्यालय प्रशासन और छात्रों ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने उनके साथ बर्बरता की। प्रदर्शन की वजह से हालात अब ऐसे बन गए हैं कि कई छात्रों को कैंपस ही छोड़ना पड़ रहा है।

4 बजे खत्म हुआ धरना

बता दें रात करीब 9 बजे से ही पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर जेएनयू और जामिया के छात्र प्रदर्शन करने जमा हो गए। उन्होंने सुबह करीब 4 बजे तक पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। देर रात पुलिस ने 50 छात्रों को रिहा किया जिसके बाद सुबह 4 बजे ये धरना खत्म हुआ।

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में शिकायत दर्ज

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ जामिया छात्रों ने जो प्रदर्शन किया और बाद में पुलिस ने जो कार्रवाई की, अब इस मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में शिकायत दर्ज हो गई है। ये शिकायत पुलिस के खिलाफ दर्ज कराई गई है।

दिल्ली के कई इलाकों में स्कूल बंद

हिसंक प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली सरकार ने साउथ ईस्ट दिल्ली जिले में ओखला, जामिया, न्यू फ्रैंड्स कॉलोनी, मदनपुर खादर क्षेत्र के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल सोमवार को बंद रखने का आदेश दिया। दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने ट्वीट करते हुए कहा कि, ‘वर्तमान हालात को देखते हुए दिल्ली सरकार ने स्कूल बंद रखने का निर्णय लिया है।’

कांग्रेस ने मोदी सरकार को दोषी ठहराया

इस घटना पर राजनीति भी शुरू हो गई है। रात 11:30 बजे कांग्रेस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मोदी सरकार को पुलिस कार्रवाई के लिए दोषी ठहराया। कांग्रेस का कहना है कि, इस मामले में प्रधानमंत्री क्यों चुप हैं? वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सलमान खुर्शीद रात 12 बजे के करीब छात्रों को समर्थन देने पुलिस हेडक्वार्टर भी पहुंचे।

ये भी पढ़े…

नया कानून बना नागरिकता संशोधन बिल, राष्ट्रपति कोविंद ने दी मंजूरी, जानें किसको मिलेगा इसका फायदा

नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ असम में प्रदर्शन तेज, 16 दिसंबर तक इंटरनेट और स्कूल-कॉलेज रहेंगे बंद

नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ जल रहा असम, पैसेंजर ट्रेन-उड़ानें रद्द, गुवाहाटी में कर्फ्यू और 24 घंटे इंटरनेट सेवाएं बंद

Related posts