CAA के खिलाफ उप्र में विरोध प्रदर्शन जारी, अब तक 18 की मौत, 4500 लोग हिरासत में, 263 पुलिसकर्मी घायल

caa

चैतन्य भारत न्यूज

लखनऊ. नागरिकता संशोधन कानून 2019 (CAA) के विरोध में देशभर में प्रदर्शन हिंसात्मक होता जा रहा है। राजधानी दिल्ली समेत अनेक राज्यों में यह प्रदर्शन हिंसक हो गया है, जिसमें व्यापक पैमाने पर सार्वजनिक संपत्ति को भी नुकसान पहुंचा है। उत्त‍र प्रदेश में भी नागरिकता कानून को लेकर बड़े पैमाने पर हिंसा हुई। इस हिंसा में अब तक 18 लोगों की मौत हो चुकी है।



 

263 पुलिसकर्मी हुए घायल

जानकारी के मुताबिक, उत्तरप्रदेश में अब तक 4,500 लोगों को हिरासत में लिया जा चुका है। जबकि हिंसा फैलाने के आरोप में 705 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। साथ ही पुलिस ने सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर भी आपत्तिजनक पोस्ट करने के 14,101 मामलों में कार्रवाई की गई है। बता दें हिंसा के दौरान उत्तर प्रदेश में कई पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। घायल पुलिसकर्मियों का आंकड़ा 263 तक पहुंच गया है। इसमें 57 पुलिसकर्मी प्रदर्शन के दौरान गोली लगने से घायल हुए हैं।

दंगाइयों की संपत्ति जब्त कर होगी नुकसान की भरपाई

हिंसक प्रदर्शन को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ऐलान किया कि विरोध प्रदर्शन के दौरान सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले लोगों को चिह्नित किया जाएगा और उनकी संपत्ति जब्त कर नुकसान की भरपाई की जाएगी। इसके लिए राज्य सरकार ने 4 लोगों की एक टीम भी बनाई है जो दंगाइयों की संपत्ति जब्त करने की कार्रवाई शुरू करेगी। पहले यह टीम नुकसान हुई संपत्ति का जायजा लेगी और फिर अगले कदम पर इसकी कार्रवाई शुरू करेगी। हिंसक प्रदर्शन को देखते हुए उत्तरप्रदेश के 21 जिलों में सोमवार तक इंटरनेट सेवा बंद रखने का फैसला किया गया है।

31 जनवरी तक धारा 144 लागू

गौरतलब है कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ उत्तर प्रदेश में पिछले तीन दिनों से लगातार हिंसक विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं। राज्य सरकार और पुलिस दोनों ने जनता से शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने की अपील की बावजूद इसके प्रदर्शनकारियों ने प्रदेश के कई हिस्सों में दंगे और आगजनी की। पूरे प्रदेश में बढ़ती हिंसा और बवाल को देखते हुए 31 जनवरी, 2020 तक धारा 144 लागू कर दी गई है। इसके अलावा हिंसाग्रस्त इलाकों में पुलिस और सुरक्षाबलों की तैनाती की गई है।

ये भी पढ़े…

उप्र में नागरिकता कानून पर बवाल, 9 लोगों की मौत, 21 जिलों में इंटरनेट बैन, 31 जनवरी तक धारा 144 लागू

नागरिकता संशोधन कानून पर बोले रजनीकांत, ट्वीटर पर लोगों ने जमकर किया ट्रोल

नागरिकता कानून को लेकर देशभर में बवाल, UP के गाजियाबाद, मेरठ, बरेली समेत 14 जिलों में इंटरनेट सेवाएं बंद

नागरिकता कानून पर बेटी ने किया विरोध तो पापा सौरव गांगुली ने ऐसे किया बचाव, उठे कई सवाल

 

 

Related posts