नागरिकता कानून पर बवाल, विरोध में सत्याग्रह पर बैठी कांग्रेस, सोनिया-राहुल-मनमोहन ने पढ़ा संविधान का प्रस्तावना

congress

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) के खिलाफ देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन जारी है। राजधानी दिल्ली में महात्मा गांधी के समाधि स्थल राजघाट पर कांग्रेस इसके विरोध में सत्याग्रह कर रही है। इस सत्याग्रह में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और पार्टी के कई अन्य वरिष्ठ नेता भी मौजूद हैं।



जानकारी के मुताबिक, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल,एके एंटनी, गुलाम नबी आजाद, केसी वेणुगोपाल, आनंद शर्मा, दिग्विजय सिंह और बड़ी संख्या में पार्टी के कार्यकर्ता भी इसमें शामिल हुए हैं। सत्याग्रह के दौरान सोनिया, मनमोहन और राहुल ने संविधान का प्रस्तावना भी पढ़ा।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि, ‘केंद्र सरकार द्वारा लागू किया गया नागरिकता कानून एमपी में लागू नहीं होगा। कांग्रेस सरकार इसे लागू नहीं करेगी।’

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि, ‘नागरिकता कानून के कारण लोकतंत्र खतरे में है। पीएम मोदी इसे लेकर गुमराह कर रहे हैं। केंद्र का एजेंडा आरएसएस का एजेंडा है, वो देश को बांटना चाहते हैं। इस बीच हम उनसे मुकाबला करने को तैयार हैं। पूरा देश उनका मुकाबला करने को तैयार है।’

महाराष्ट्र के कांग्रेस नेता बाला साहेब थोराट बोले, ‘महाराष्ट्र संतों की भूमि है, जहां शिवाजी से लेकर अंबेडकर तक महानायक हुए। महाराष्ट्र ने कभी धर्म के नाम पर बांटने का समर्थन नहीं किया और आज भी नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ खड़ा है।’

प्रियंका गांधी ने कहा कि, ‘बिजनौर के 22 साल के बच्चे अनस के नाम, जो अपने परिवार के लिए कॉफी की मशीन चलाकर कमाता था, जिसकी कुछ समय पहले ही शादी हुई थी, वहां के 21 साल के सुलेमान के नाम, जो यूपीएससी के लिए पढ़ाई कर रहा था, जिसकी मां ने कल शाम मुझसे कहा- मेरा बेटा वतन के लिए शहीद हुआ है। उन सभी बच्चों के नाम जो इस आंदोलन में शहीद हुए हैं। बिजनौर के ओमराज सैनी के नाम, जिसके 5 बच्चे अभी भी उनका घर पर इंतजार कर रहे हैं, वो अस्पताल में घायल हैं। उन सबके नाम आज हम संकल्प करें कि हम इस संविधान की रक्षा करेंगे, इस संविधान को नष्ट नहीं होने देंगे।’

बता दें सत्याग्रह शुरू होने से पहले प्रियंका और राहुल ने अपने-अपने ट्वीटर अकाउंट से पोस्ट कर सभी को ‘सत्याग्रह’ में शामिल होने का आह्वान किया था। राहुल ने ट्वीट में लिखा था कि, ‘प्रिय छात्रों और युवाओं, क्या यह काफी नहीं है कि हम भारत की अनुभूति करें। यह वह समय है जब आपको दिखाना होगा कि आप नफरत के जरिये देश को बर्बाद होने देंगे या नहीं होने देंगे। राजघाट पर दिन में तीन बजे मेरे साथ सत्याग्रह में शामिल होइए, ताकि मोदी-शाह की ओर से शुरू की गई नफरत और हिंसा के खिलाफ प्रदर्शन किया जाए।’

वहीं प्रियंका ने ट्वीट में लिखा था कि, ‘ये देश एक साझा रिश्ता है, साझा ख्वाब है। इस मिट्टी को हमने मेहनतों के रंग से सींचा है, संविधान हमारी शक्ति है। देश को फूट डालो और राज करो की राजनीति से बचाना है। आइए आज दोपहर 3 बजे से बापू की समाधि राजघाट पर मेरे साथ संविधान पाठ का हिस्सा बनिए।’

ये भी पढ़े…

उप्र में नागरिकता कानून पर बवाल, 9 लोगों की मौत, 21 जिलों में इंटरनेट बैन, 31 जनवरी तक धारा 144 लागू

नागरिकता संशोधन कानून पर बोले रजनीकांत, ट्वीटर पर लोगों ने जमकर किया ट्रोल

नागरिकता कानून को लेकर देशभर में बवाल, UP के गाजियाबाद, मेरठ, बरेली समेत 14 जिलों में इंटरनेट सेवाएं बंद

Related posts