नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ जल रहा असम, पैसेंजर ट्रेन-उड़ानें रद्द, गुवाहाटी में कर्फ्यू और 24 घंटे इंटरनेट सेवाएं बंद

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. संसद के दोनों सदनों से नागरिकता संशोधन बिल पास हो गया है। राज्यसभा में इस बिल के पक्ष में 125 वोट और विरोध में 99 वोट पड़े। हालांकि, विपक्ष ने बिल को लेकर जमकर हंगामा भी किया। इस बिल के खिलाफ पूर्वोत्तर में प्रदर्शन जारी है।


पूर्वोत्तर में नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ प्रदर्शन की वजह से उड़ानों पर असर पड़ रहा है। असम में छात्र संगठन सड़कों पर उतर गए हैं। न सिर्फ असम बल्कि अरुणाचल प्रदेश, मेघालय समेत अन्य राज्यों में भी विरोध तेज होता जा रहा है। जानकारी के मुताबिक, इंडिगो ने गुवाहाटी, दिब्रूगढ़, जोरहाट की फ्लाइट रद्द कर दी हैं। मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा आज शाम को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात करेंगे।

असम में नागरिकता बिल का विरोध हिंसक होता जा रहा है। प्रदर्शनकारियों ने मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल के घर पर भी हमला किया। व्यापक विरोध प्रदर्शन के बीच बिगड़ती कानून व्यवस्था को संभालने के लिए बुधवार को असम के गुवाहाटी में लगाए गए कर्फ्यू को अनिश्चिकाल के लिए बढ़ा दिया गया है। साथ ही असम के 10 जिलों में बुधवार शाम से ही 1 दिन के लिए इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दीं गई हैं। देर रात हालात बिगड़ने पर गुवाहाटी और जोरहाट में सेना को बुला लिया है। वहीं, त्रिपुरा में असम राइफल्स के जवानों को तैनात किया गया है।

जानकारी के मुताबिक, नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पहली याचिका दाखिल हो गई है। इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML) के चार सांसदों ने अपनी याचिका में कहा कि, ‘धर्म के आधार पर वर्गीकरण की संविधान इजाजत नहीं देता। ये बिल संविधान के अनुच्छेद 14 का उल्लंघन है, इसलिए इसको रद्द किया जाए।’


असम में बढ़ रहे प्रदर्शन को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया कि, ‘मैं उन्हें कहना चाहता हूं कि कोई भी आपके अधिकारों, विशिष्ट पहचान और संस्कृति को नहीं छीन सकता। यह हमेशा फलता-फूलता और विकसित होती रहेगी। केंद्र सरकार संवैधानिक सुरक्षा, भाषा, संस्कृति और असम की क्षेत्रीय संस्कृति को लेकर प्रतिबद्ध है।’

ये भी पढ़े…

नागरिकता संशोधन बिल : देश की नागरिकता के क्या हैं नियम? सरकार ने क्या बदलाव किए, जानें इसके बारे में सबकुछ

नागरिकता संशोधन बिल लोकसभा में पास, पीएम मोदी ने शाह को कहा धन्यवाद

नागरिकता संशोधन बिल : 293 वोट के साथ लोकसभा में प्रस्ताव स्वीकार, अमित शाह बोले- कांग्रेस ने देश का विभाजन किया

Related posts