MP: सर्किट हाउस में मच्छरों ने उड़ाई सीएम शिवराज की नींद, 4 बजे उठकर पानी की मोटर भी खुद बंद की, इंजीनियर सस्पेंड

चैतन्य भारत न्यूज

17 फरवरी को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बस हादसे के पीड़ितों का हाल जानने के लिए सीधी पहुंचे थे। इस दौरान वह सर्किट हाउस में रात्रि विश्राम करने ठहरे लेकिन उनका विश्राम हो नहीं सका। सीएम शिवराज मच्छारों के कारण रातभर नींद नहीं आ सकी। इसके बाद 4 बजे पानी की टंकी ओवरफ्लो हो गई तो माेटर बंद कराने के लिए भी उन्हें खुद उठकर जाना पड़ा।

मच्छरों ने उड़ाई शिवराज की नींद

सीएम की नींद में खलल पड़ा तो प्रशासन में खलबली मचना तय था। मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि, शिवराज 12 बजे के आसपास अपने कमरे में आराम के लिए चले गए थे, लेकिन यहां मच्छरों ने उन्हें सोने नहीं दिया। सर्किट हाउस में मच्छरदानी भी नहीं थी। इसके बाद आखिरकार रात ढाई बजे दवा का छिड़काव हुआ तो CM को थोड़ा आराम करने का मौका मिला, लेकिन अव्यवस्थाओं ने फिर नींद तोड़ दी।

टंकी भरने पर खुद मोटर बंद करने उठे

सुबह 4 बजे पानी की टंकी भर गई। तेज आवाज आने के कारण सीएम की नींद खुल गई। इसके बाद उन्होंने खुद उठकर मोटर बंद करवाई। लेकिन मोटर बंद करने का सिस्टम भी भगवान भरोसे ही था। सर्किट हाउस में परेशानियों से भरी रात गुजारने के बाद शिवराज भोपाल रवाना हो गए।

इन लोगों पर गिरी गाज

ये लापरवाही रीवा कमिश्नर राजेश जैन और सर्किट हाउस को बहुत भारी पड़ी। मुख्यमंत्री ने नाराजगी जताते हुए रीवा कमिश्नर को जोरदार फटकार लगाई और सर्किट हाउस के प्रभारी इंजीनियर बाबूलाल गुप्ता को तो तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया जबकि कार्यपालन यंत्री लोक निर्माण विभाग देवेंद्र कुमार की दो वार्षिक वृद्धि रोकने का आदेश दिया। बताया जा रहा है कि सीधी कलेक्टर रवींद्र चौधरी और एसपी पंकज कुमावत पर भी गाज गिर सकती है।

Related posts