हर 10 में से एक भारतीय को जीवनकाल में कैंसर होने की आशंका, 2040 तक गरीब देशों में 81% तक बढ़ जाएगा कैंसर का खतरा

चैतन्य भारत न्यूज

हर 10 भारतीय में से एक को जीवन काल में कैंसर होने और 15 में से एक की बीमारी से मौत होने की आशंका जताई गई है। यह बात विश्व स्वास्थ्य संगठन डब्ल्यूएचओ की एक रिपोर्ट में सामने आई है। रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2018 में भारत में कैंसर से 11।6 लाख नए मामले सामने आए थे।


2018 में कैंसर के 11.6 लाख मामले 

डब्ल्यूएचओ और उसके साथ काम करने वाली इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर ने दो रिपोर्ट जारी की है। एक रिपोर्ट बीमारी पर वैश्विक एजेंडा तय करने पर आधारित है और दूसरी रिपोर्ट इसके अनुसंधान और रोकथाम पर केंद्रित है। रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में साल 2018 में कैंसर के 11.6 लाख मामले सामने आए और इनमें से 7,84,800 लोगों की मौत हो गई।

2040 तक  81% बढ़ जाएगा खतरा 

रिपोर्ट में कहा गया है कि, 10 भारतीयों में से एक व्यक्ति के अपने जीवन काल में कैंसर की चपेट में आने की आशंका है। डब्ल्यूएचओ ने यह भी चेतावनी दी है कि रोकथाम और देखभाल में निवेश न होने से निम्न और मध्यम आय वाले देश में वर्ष 2040 तक कैंसर के मामले 81% तक बढ़ जाएंगे। रिपोर्ट के मुताबिक, इन देशों ने कैंसर से लड़ने के बजाय अपने सीमित स्रोतों को संक्रमित बीमारियों से लड़ने और मातृत्व बाल स्वास्थ्य पर केंद्रित किया है। ऐसे देशों में कैंसर के कारण मौतों की संख्या भी ज्यादा होती है।

कैंसर से निपटाना बड़ी चुनौती 

डब्ल्यूएचओ की महा निर्देशक रेन मिंगुई ने बताया कि, अमीर और गरीब देशों में कैंसर के इलाज की अस्वीकार्य समानता से निपटना हमारे लिए बड़ी चुनौती है। मिंगुई ने यह भी कहा कि, यदि प्राथमिक देखभाल और पर्याप्त तंत्र हो तो कैंसर की जल्द पहचान भी की जा सकती है, प्रभावी रूप से इलाज किया जा सकता है और इससे बचा जा सकता है। प्रभावी ढंग से इलाज के साथ-साथ इस घातक रोग को खत्म भी किया जा सकता है।

ये भी पढ़े…

दुनियाभर में हर 6 में से 1 मौत कैंसर से, बचाव के लिए जागरूकता जरूरी

सिर्फ महिलाएं ही नहीं बल्कि पुरुषों को भी होता है ब्रेस्ट कैंसर, जानिए इसके कारण और लक्षण

विशेषज्ञों ने भी माना भारतीय मसाले के गुण, बोले- एलर्जी से लेकर कैंसर जैसी बीमारी तक से बचाते हैं

Related posts