बागी विधायकों से मिलने मुंबई पहुंचे डीके शिवकुमार, पुलिस ने रोका तो कहा- इसके पीछे बीजेपी का हाथ है

shivkumar,karnataka

चैतन्य भारत न्यूज

मुंबई. कर्नाटक में जारी सियासी घमासान के बीच कांग्रेस ने अपने बागी विधायकों को मनाने के लिए पूरा जोर लगा दिया है। बुधवार को वरिष्ठ मंत्री और कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार, जेडीएस विधायक शिवालिंगे गौड़ा और कुछ अन्य कांग्रेस नेताओं के साथ बागी विधायकों से मिलने पहुंचे। वह मुंबई के उस होटल में गए जहां सभी बागी विधायक ठहरे हुए हैं। हालांकि, वहां पहुंचकर उन्हें निराशा हाथ लगी क्योंकि पुलिस ने उन्हें होटल के गेट पर ही रोक दिया।

बागी विधायकों ने मिलने से किया इनकार

जानकारी के मुताबिक, बागी विधायक मुंबई के रेनिसन्सा होटल में ठहरे हुए हैं। शिवकुमार को पुलिस ने होटल में घुसने की इजाजत नहीं दी। शिवकुमार लगातार कहते रहे कि होटल में उनका कमरा बुक है लेकिन पुलिस ने उनकी एक न सुनी। जानकारी के मुताबिक, कांग्रेस के बागी विधायकों ने शिवकुमार से मिलने से साफ इनकार कर दिया है और साथ ही उन्होंने अपने लिए सुरक्षा की भी मांग की है। वहीं इस मामले में शिवकुमार का कहना है कि उनका सभी मित्रों संग छोटा-सा मतभेद है जिसे बातचीत के जरिए सुलझा लिया जाएगा।

बीजेपी पर लगाया आरोप 

शिवकुमार ने कहा, ‘मैं यहां अकेला हूं और अकेला ही मरूंगा। बीजेपी ही इन सबके पीछे है। मुझे यहां किसी समर्थन की जरूरत नहीं। अकेला ही इस स्थिति से निपट सकता हूं।’ उन्होंने कहा, ‘विधायक मेरे संपर्क में हैं। उन पर क्या एक्शन होगा, इस बारे में बेंगलुरु में बोलूंगा। मेरी होटल में बुकिंग है लेकिन पुलिस मुझे रिसेप्शन तक जाने नहीं दे रही। पुलिस भी सरकार के इशारे पर चल रही है।’

भारी सुरक्षा घेरे में हैं बागी विधायक

सूत्रों के मुताबिक, होटल के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है। शिवकुमार और जेडीएस नेता के आने की खबर मिलते ही इन बागी विधायकों ने मुंबई पुलिस कमिश्नर को एक चिट्ठी लिखकर खुद की सुरक्षा को खतरा बताया था। फिर बागी विधायकों की अपील पर कार्रवाई करते हुए मुंबई पुलिस ने होटल के बाहर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम कर दिए। सूत्रों के मुताबिक, होटल के बाहर महाराष्ट्र राज्य रिजर्व पुलिस बल और दंगा निरोधक पुलिस की तैनाती की गई है।

ये भी पढ़े… 

कर्नाटक सियासी संकट पर सिद्धारमैया ने कहा- यहां सबकुछ ठीक है, यह सब बीजेपी की साजिश है

कर्नाटक सरकार पर गहराया संकट, कांग्रेस-जेडीएस के 12 विधायक पहुंचे इस्तीफा देने

Related posts