कांग्रेस ने जारी किया घोषणा पत्र, राहुल गांधी ने दिया नारा- ‘गरीबी पर वार 72 हजार’

चैतन्य भारत न्यूज।

नई दिल्ली। कांग्रेस ने आज पार्टी कार्यालय में अपना घोषणा पत्र (मेनिफेस्टो) जारी कर दिया है। इस मेनिफेस्टो को जनआवाज नाम दिया गया है, इसकी टैगलाइन ‘हम निभाएंगे’ दी गई है।

राहुल गांधी ने कहा…

घोषणापत्र जारी करने के बाद राहुल गांधी ने कहा कि इसमें सिर्फ पांच बातों पर फोकस है, क्योंकि कांग्रेस का चुनाव चिह्न ही पंजा है। सबसे पहले बात न्याय की आय, जिसके जरिए हम सभी के खातों में पैसा डालेंगे, “गरीबी पर वार, 72 हजार” ये पैसे हर साल दिए जाएंगे। इससे सीधे तौर पर अर्थव्यवस्था को फायदा मिलेगा। एक साल में 72 हजार यानी 5 साल में 3.60 लाख रुपए किसानों और गरीबों की जेब में सीधा पैसा जाएगा। उन्होंने कहा पीएम नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी करके देश की अर्थव्यवस्था को जाम किया, वह इससे खत्म हो जाएगा।

कांग्रेस के 5 बड़े वादे

  • हर साल गरीब तबके के 20 फीसदी लोगों के खाते में 72,000 रुपए डाले जाएंगे।
  • 22 लाख सरकारी नौकरियां दी जाएंगी। 10 लाख लोगों को ग्राम पंचायतों में रोजगार देने का वादा। 3 साल तक युवाओं को कारोबार करने के लिए किसी से भी अनुमति नहीं लेनी पड़ेगी।
  • मनरेगा में काम के दिनों को 100 से बढ़ाकर 150 करने का ऐलान।
  • किसानों के लिए अलग से बजट जारी करने का ऐलान।
  • जीडीपी का 6 फीसदी हिस्सा शिक्षा पर खर्च किया जाएगा।

इसके अलावा राहुल गांधी ने कहा…

राहुल गांधी ने सबसे बड़ा ऐलान करते हुए कहा किसान अगर कर्ज नहीं चुका पाए तो उनपर आपराधिक मामला दर्ज नहीं किया जाएगा।

स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने काम किया जाएगा। गरीबों को मेडिकल की सुविधा मिलेगी।

अगर पार्टी सत्ता में आती है तो देशद्रोह के अपराध को परिभाषित करने वाली भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए को खत्म किया जाएगा। घोषणापत्र में लिखा गया है कि इस धारा का बहुत दुरुपयोग किया गया है।

उन्होंने कहा हम चाहते थे कि इसमें जनता की आवाज हो इसलिए मैंने कमेटी से कहा था कि आम लोगों से बात करना जरूरी है। मेरा कहना साफ था कि इसमें कोई झूठ नहीं होना चाहिए, क्योंकि हम प्रधानमंत्री की तरह झूठ नहीं बोलते हैं।

देश में किसानों का एक अलग बजट हो

राहुल गांधी ने कहा हम मनरेगा में 100 दिन से बढ़ाकर 150 दिन कर देंगे। उन्होंने कहा हिंदुस्तान में किसानों का एक अलग बजट होना चाहिए। राहुल गांधी ने अंत में सभी को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि हमारी टीम ने एक बहुत अच्छा घोषणापत्र तैयार किया है।

पी चिदंबरम ने कहा

कांग्रेस मैनिफेस्टो कमेटी के चेयरमैन पी चिदंबरम ने कहा कि इस बार सबसे बड़ा मुद्दा बेरोजगारी है। घोषणापत्र में समाज के हर वर्ग का ध्यान रखा गया है। घोषणापत्र तैयार करने के लिए पूरे देश से 1 लाख 60 हजार सुझाव आए। इस दौरान दिल्ली स्थित पार्टी मुख्यालय में राहुल गांधी, सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत कांग्रेस के कई बड़े नेता मौजूद रहे।

ये भी पढ़ें…

कांग्रेस के घोषणा पत्र में देशद्रोह के कानून की धारा 124 (ए) निरस्त करने की बात, जानें क्या है ये कानून

Related posts