कांग्रेस ने केंद्र सरकार की स्मार्टसिटी परियोजना को बताया फ्लॉप, कहा वाराणसी के साथ भी अन्याय

चैतन्य भारत न्यूज।

नई दिल्ली। कांग्रेस ने केंद्र सरकार की स्मार्टसिटी परियोजना को फ्लॉप बताया है। कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने बुधवार को सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत प्राप्त जानकारी के आधार पर कहा कि देश में 100 स्मार्ट शहर बनाने की इस योजना पर मोदी सरकार ने पांच साल में मात्र सात प्रतिशत राशि जारी की है। इस हिसाब से इस परियोजना को पूरा होने में 52 साल लगेंगे।

वाराणसी के साथ अन्याय का आरोप

सुरजेवाला ने प्रधानमंत्री मोदी पर अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के साथ भी इस योजना में न्याय नहीं कर पाने का आरोप लगाते हुए कहा, ”काशी को क्योटो बनाने का दावा करने वाले मोदी जी ने वाराणसी स्मार्ट सिटी मिशन के लिए महज 8.63 फीसदी राशि जारी कर काशी का हक छीना है।”

सिर्फ सात प्रतिशत राशि जारी की

सुरजेवाला ने आरटीआई में आवास और शहरी विकास मामलों के मंत्रालय से मिली जानकारी के आधार पर कहा कि स्मार्ट सिटी मिशन को लेकर सरकार की वित्तीय उपेक्षा के कारण इस योजना ने पांच साल में दम तोड़ दिया। उन्होंने कहा कि इस योजना के लिए सरकार को 2.7 लाख करोड़ रुपए से अधिक राशि जारी करनी थी, लेकिन सिर्फ सात प्रतिशत राशि (14882 करोड़ रुपए) ही जारी की गई।

दिल्ली को मिली कम राशि

सुरजेवाला ने कहा कि सरकार को खुद स्मार्ट सिटी परियोजना की मौजूदा स्थिति की जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि काशी के अलावा दिल्ली, मुंबई, गाजियाबाद सहित तमाम प्रमुख शहरों के साथ सरकार ने इस योजना में अन्याय किया। दिल्ली को लगभग दो हजार करोड़ रुपए की जगह मात्र 196 करोड़ रुपए मिले।

Related posts