हरिद्वार कुंभ में जाने के लिए कोरोना निगेटिव रिपोर्ट जरूरी, HC ने की CM तीरथ के फैसले की निंदा

चैतन्य भारत न्यूज

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों का असर हरिद्वार में होने वाले कुंभ मेले पर भी नजर आ रहा है। पहले उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने यह फैसला लिया था कि कुंभ मेले में प्रवेश के लिए कोरोना निगेटिव रिपोर्ट लाना अनिवार्य नहीं है। लेकिन अब उत्तराखंड की हाईकोर्ट ने निर्देश दिया है कि, ‘कुंभ में आने वाले सभी लोगों को RT-PCR टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट दिखाना अनिवार्य होगा।’ साथ ही हाईकोर्ट ने मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के उस फैसले की निंदा की है, जिसमें उन्होंने बिना टेस्ट के ही कुंभ में आने की इजाजत दी थी।

कुंभ मेले को लेकर एक जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने निर्देश दिया है कि, ‘केंद्र और राज्य सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन्स को सख्ती से पूरा किया जाए।’ हाईकोर्ट ने कहा है कि, ‘जिन लोगों को वैक्सीन लग चुकी है, अगर वह अपना सर्टिफिकेट दिखाते हैं तो उन्हें छूट मिल सकती है। कुंभ मेले में शामिल होने के लिए यहां आने वाले सभी श्रद्धालुओं के लिए 72 घंटे पहले अपनी कोरोना वायरस संक्रमण की निगेटिव रिपोर्ट साथ लाना जरूरी होगा।’

कोविड-19 से संबंधित सावधानियों और आवश्यक दिशा-निदेर्शों के बारे में उत्तराखंड सरकार द्वारा जारी पत्र के अनुसार सभी श्रद्धालुओं को राज्य सरकार के पोर्टल पर खुद को पंजीकृत करना होगा और अपने मोबाइल फोन पर आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करना होगा। जारी पत्र के अनुसार 65 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों, गंभीर बीमारी से ग्रस्त, गर्भवती महिलाओं और 10 साल से कम उम्र के बच्चों को कुंभ मेले में नहीं आने की सलाह दी गयी है।

तीरथ सिंह रावत ने बदला था पूर्व सीएम का फैसला

आपको बता दें कि उत्तराखंड में इसी महीने कुंभ का मेला शुरू हुआ है। पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की ओर से पहले कुंभ में आने वाले लोगों के लिए सख्ती का ऐलान किया गया था और RT-PCR नेगेटिव रिपोर्ट को अनिवार्य किया गया था। हालांकि, जब तीरथ सिंह रावत ने मुख्यमंत्री पद की कमान संभाली तो उन्होंने साफ कहा कि कुंभ में कोई पाबंदी नहीं होगी। तीरथ सिंह रावत ने कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट की पाबंदी को भी हटा दिया था। इस फैसले की काफी निंदा हुई थी।

Related posts