कोरोना टीकाकरण की तैयारियों में जुटी केंद्र सरकार, सबसे पहले प्राथमिकता समूह में लगाई जाएगी

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. कोरोना (कोविड-19) वायरस के खिलाफ वैक्सीन की उम्मीद बढ़ने के साथ ही भारत सरकार ने इसे आम लोगों तक पहुंचाने की तैयारी कर ली है।

भारत में देश-विदेश की कम से कम पांच वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल के विभिन्न चरणों में हैं इसलिए आशा की जा रही है कि इस वर्ष के अंत या 2021 के शुरू में कोई न कोई प्रभावी वैक्सीन उपलब्ध हो जाएगी। केंद्र सरकार की योजना सीधे वैक्सीन खरीदकर उसे प्राथमिकता वाले समूहों को मुफ्त उपलब्ध करवाने की है। केंद्र सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अलग से या अपने स्तर पर वैक्सीन खरीदने से मना कर दिया है।

जानकारी के मुताबिक प्रारंभिक चरण में 30 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। केंद्र ने राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों को नवंबर के दूसरे हफ्ते तक प्राथमिकता वाले समूहों की सूची बनाने को कहा है। यही नहीं प्रत्येक व्यक्ति के आधार को टीकाकरण वाली सूची से लिंक किया जाएगा, ताकि उनका पता आसानी से लग सके।

प्राथमिकता समूह में चार श्रेणियां बनाई गई हैं-

  • पहली कैटेगरी में डॉक्टर, मेडिकल के छात्र, नर्स, और आशा कार्यकर्ता सहित एक करोड़ स्वास्थ्यकर्मी
  • दूसरी श्रेणी में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अग्रिम मोर्चे पर सेवाएं दे रहे करीब दो करोड़ नगर निगम कर्मचारी, पुलिस और सशस्त्र बलों के जवान होंगे
  • तीसरी श्रेणी में 50 साल और उससे अधिक उम्र के करीब 26 करोड़ लोग शामिल होंगे।
  • चौथी और आखिरी श्रेणी में 50 साल के उम्र के करीब एक करोड़ ऐसे लोग शामिल हैं जो पहले से गंभीर रोगों से ग्रस्त हैं।

Related posts