कोरोना वायरस आपदा घोषित, मौत पर 4 लाख का मुआवजा देने का ऐलान, 3 घंटे में सरकार ने वापस लिया आदेश

corona

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. दुनियाभर में कोहराम मचाने के बाद कोरोना वायरस ने भारत में भी दस्तक दे दी है। भारत में कोरोनावायरस संक्रमण के अब तक 107 मामले सामने आ चुके हैं। बढ़ते खतरे को देख केंद्र सरकार ने COVID-19 को आपदा घोषित कर दिया है। सरकार ने कोरोना वायरस से जान गंवाने वाले शख्स के परिवार को 4 लाख रुपए सहायता राशि के रूप में देने का फैसला किया था। लेकिन महज तीन घंटे बाद ही मौत पर मुआवजे का प्रावधान वापस ले लिया गया।



बता दें गृह मंत्रालय ने शनिवार दोपहर 3:13 बजे आदेश जारी कर कोरोना वायरस से किसी की मौत होने पर परिवार को चार लाख रुपए का मुआवजा देने की घोषणा की थी। उन्होंने राहत कार्यों में शामिल लोगों को भी मुआवजे के दायरे में रखा गया था। राज्य आपदा राहत कोष से मदद लेने की भी बात कही गई थी। लेकिन आदेश जारी होने के महज 3 घंटे बाद ही सरकार द्वारा नया आदेश जारी किया गया। इसमें कोरोनावायरस को आपदा तो माना गया, लेकिन मृतक के परिवार को मुआवजे देने का कोई जिक्र नहीं था।

WHO ने घोषित किया महामारी

बता दें केंद्र सरकार से पहले ओडिशा, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और उत्तराखंड कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर चुका है। वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी कोरोना वायरस को वैश्विक महामारी घोषित कर दिया है। महामारी घोषित किए जाने के बाद बीमारी की रोकथाम और इलाज के लिए संसाधनों का अधिकतम इस्तेमाल किया जा सकता है।

क्या होती है राष्ट्रीय आपदा?

आपदा का अर्थ है- किसी भी क्षेत्र में प्राकृतिक रूप से इंसान पर बड़ी विपत्ति आना। बाढ़, तूफान, चक्रवात, भूकंप, सुनामी आदि को प्राकृतिक आपदा और एटमी, जैविक या रासायनिक आपदाओं को मानव जनित आपदा कहा जाता है। आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के अनुसार, राष्ट्रीय आपदा घोषित होने की स्थिति में एनडीआरएफ को मदद के लिए भेजा जाता है। इस आपदा से नुकसान होने पर राहत कोष से पीड़ितों की 75% मदद केंद्र और 25% राज्य सरकार करती हैं। कई बार जरुरत पड़ने पर केंद्र के 100% फंडिंग वाले ‘राष्ट्रीय आपदा आकस्मिक फंड’ से भी अतिरिक्त सहायता दी जाती है।

महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा मामले

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार के मुताबिक, रविवार दोपहर 12 बजे तक भारत में कोरोना के पॉजिटिव मामलों की संख्या 107 तक पहुंच गई है। केरल में सबसे अधिक 22 मामले सामने आ चुके हैं। कई राज्यों ने स्कूलों, कॉलेजों, सार्वजनिक संस्थानों और सिनेमा हॉल को बंद करने के आदेश दिए हैं। बता दें दुनियाभर में कोरोना वायरस के चलते 5 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

ये भी पढ़े…

कोरोना का कहर: इन 10 राज्यों में स्कूल-कॉलेज बंद, मॉल-सिनेमाघर में जाने पर भी रोक, कई राज्यों में विधानसभा सत्र स्थगित

अमिताभ ने लिखी कोरोना वायरस पर कविता, कहा- आने दो कोरोना-वोरोना

रंग पंचमी: कोरोना वायरस का कहर, इंदौर की परंपरागत गेर हुई निरस्त

Related posts