मोटे लोगों के लिए कोरोना बन रहा जानलेवा, 30 फीसदी मरीजों को पड़ी वेंटिलेटर की जरूरत

चैतन्य भारत न्यूज

कोरोना वायरस दुनियाभर में कहर मचा रहा है। यह हर उम्र के लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। मोटापे से ग्रस्त लोगों के लिए कोरोना संक्रमण जानलेवा साबित हो रहा है। देशभर के कई कोविड अस्पतालों में अब तक हुई मौतों में ऐसे मरीजों की बड़ी संख्या है जो कि मोटापे से ग्रस्त हैं। डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना के जितने मरीज संक्रमित हुए, उनमें से जिन लोगों को वेंटिलेटर की जरूरत पड़ी, उनमें करीब 30 फीसदी लोग मोटापे से पीड़ित थे।

दिल्ली के सबसे बड़े कोविड अस्पताल एलएनजेपी में भर्ती हुए कोरोना के कुल मरीजों में से 30 फीसदी ऐसे थे, जो मोटापे के शिकार थे। अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ। सुरेश कुमार ने कहा कि, लोगों में मोटापा बड़ी समस्या है। अगर ऐसे व्यक्ति को कोरोना हो जाता है, तो यह जानलेवा साबित होता है। ऐसे मरीजों के इलाज में परेशानी भी आती हैं, क्योंकि यह लोग पहले से कई तरह की बीमारियों की चपेट में हैं।

वैसे भी मोटापे को बीमारियों का घर माना जाता है। अस्पताल के डॉक्टर इनके इलाज पर खास ध्यान दे रहे हैं, लेकिन इसके बावजूद मोटापा ग्रस्त लोगों में ज्यादा खतरा बना ही रहता है। यहां अब तक जिन लोगों की संक्रमण से मौत हुई है, उनमें करीब 30 फीसदी लोग मोटापे से ग्रस्त थे। अस्पताल में मोटापे से पीड़ित लोगों के इलाज पर विशेष ध्यान दिया जाता है। शरीर में अधिक फैट जमा होने के कारण इन मरीजों को डायबिटीज, दिल की बीमारी भी हो जाती है। इससे इनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने लगती है। यही कारण है कि अस्पताल में अब तक हुई कुल मौतों में से करीब 20 फीसदी लोग मोटापा और इससे होने वाली बीमारियों से पीड़ित थे।

मोटापा नियंत्रित करने के लिए उपाय

  • फाइबर वाली चीजों को अपने खाने में शामिल करें।
  • भोजन में सब्जियां और फल को सेवन अधिक करें।
  • वजन कम करने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करें।

 

Related posts