कोरोनावायरस: भगवान के घर भी खतरे में नौकरी, तिरुपति बालाजी मंदिर ने अपने 1300 कर्मचारियों को किया बाहर

tirupati balaji

चैतन्य भारत न्यूज

कोरोना वायरस महामारी के कारण लगे लॉकडाउन का असर देशभर के सभी बड़े मंदिरों पर भी पड़ा है। सभी मंदिरों में भक्तों के प्रवेश पर प्रतिबंध है। मंदिरों में कार्यरत कर्मचारियों की नौकरी तक चली गई है। हाल ही में आई जानकारी के मुताबिक, आंध्र प्रदेश के तिरुपति बालाजी मंदिर में कार्यरत 1300 कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों को बाहर कर दिया गया है।

मंदिर प्रशासन ने कॉन्ट्रैक्ट रिन्यू करने से किया मना

जानकारी के मुताबिक, इन 1300 कर्मचारियों का कॉन्ट्रैक्ट 30 अप्रैल को खत्म हो गया और मंदिर प्रशासन ने 1 मई से कॉन्ट्रैक्ट रिन्यू करने से इनकार कर दिया है। इसे लेकर मंदिर प्रशासन का कहना है कि, लॉकडाउन की वजह से काम बंद है, इसलिए अब इन 1300 कर्मचारियों के कॉन्ट्रैक्ट 30 अप्रैल से आगे नहीं बढ़ा पाएंगे।

गेस्टहाउस में कार्यरत थे सभी कर्मचारी

बता दें तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (TTD) ट्रस्ट द्वारा तीन गेस्टहाउस चलाए जाते हैं, जिनके नाम विष्णु निवासम, श्रीनिवासम और माधवम है। सभी निकाले गए 1300 कर्मचारी इन्हीं गेस्ट हाउसों में कई वर्षों से काम करते थे। तिरुपति बालाजी मंदिर के अध्यक्ष वाई वी सुब्बा रेड्डी ने कहा कि, ‘लॉकडाउन के कारण सभी गेस्टहाउस बंद हैं, जिस वजह से इन कर्मचारियों का कॉन्ट्रैक्ट नहीं बढ़ाया गया। नियमित कर्मचारियों को भी इस दौरान कोई काम नहीं सौंपा है।’

20 मार्च से मंदिर है बंद

टीटीडी ट्रस्ट के प्रवक्ता टी रवि का कहना है कि, ‘उन्होंने सभी फैसले कानून के मुताबिक लिए गए हैं। काम बंद होने की वजह से कर्मचारियों को निकालने का फैसला लेना पड़ा है।’ बता दें कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए 20 मार्च से ही तिरुपति बालाजी मंदिर को बंद कर दिया गया था। हालांकि, मंदिर में दैनिक अनुष्ठान पुजारियों द्वारा किया जा रहा है।

ये भी पढ़े…

तिरुपति बालाजी मंदिर में उमड़ी भक्तों की भीड़, एक दिन में आया 3 करोड़ से ज्यादा का चढ़ावा

तिरुपति बालाजी मंदिर के पास है नौ हजार किलो से भी ज्यादा सोना, कीमत जानकार हैरान हो जाएंगे आप

भक्तों को दर्शन देने नौका विहार पर निकले भगवान बालाजी, 9 दिवसीय जल समारोह शुरू

Related posts