दिल्ली हाईकोर्ट का आदेश- यदि कार में अकेले हों तो भी मास्क लगाना जरूरी है

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए दिल्ली हाई कोर्ट ने एक बड़ा आदेश दिया है। कोर्ट ने कहा कि, ‘कार के अंदर अकेले बैठे व्यक्ति को मास्क लगाना अनिवार्य होगा। मास्क एक ‘सुरक्षा कवच’ है जो कोविड 19 वायरस को फैलने से रोकेगा।’ बुधवार को एक याचिका की सुनवाई के दौरान अदालत ने ये निर्देश दिया है।

बता दें एक याचिका दाखिल कर कार में अकेले बैठे व्यक्ति के मास्क पहनने के फैसले को चुनौती दी गई थी। बता दें राजधानी दिल्ली समेत कई शहरों में मास्क ना पहनने पर जुर्माना है। कई बार ऐसी खबरें भी आई है कि कार में अकेले बैठे व्यक्ति का चालान काटने पर लोगों का पुलिस के साथ विवाद भी हुआ। अब हाई कोर्ट के आदेश के बाद स्थिति स्पष्ट हो गयी है।

दिल्ली हाईकोर्ट की न्यायाधीष जस्टिस प्रतिभा सिंह ने कहा कि, ‘वाहन एक सार्वजनिक जगह है और अगर उसमें एक भी व्यक्ति बैठा होगा तो उसका मास्क पहनना जरूरी है। कोरोना वायरस के खिलाफ मास्क एक सुरक्षा कवच की तरह है यह मास्क पहनने वाले व्यक्ति को संक्रमण से बचाता है।’ कोर्ट ने माना कि मास्क पहनने की वजह से लाखों लोगों की जान बची है।

इतना ही नहीं बल्कि कोर्ट ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि, ‘घर में अगर वृद्ध लोग रहते हों तो घरों में भी मास्क पहनने को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए और गाड़ी चलाते समय मास्क पहनना इसलिए भी जरूरी है ताकि गाड़ी अगर सार्वजनिक जगहों से गुजरे तो वहां पर संक्रमण फैलने का खतरा न हो।’

Related posts