कोरोना के सामने आस्था भी फेल: गुजरात के मंदिरों में सिर्फ नमस्ते कीजिए, साष्टांग प्रणाम की इजाजत नहीं

चैतन्य भारत न्यूज

कोरोना वायरस महामारी ने दुनियाभर में बहुत कुछ बदल दिया है। अब भगवान के दर्शन करने का भी तरीका बदल गया है। जी हां… भगवान के प्रति अपनी श्रद्धा को व्यक्त करने के लिए भी अब आपको सरकार द्वारा बनाए गए नियमों का पालन करना पड़ेगा। गुजरात के मंदिरों में दर्शन के लिए आने वालों श्रद्धालुओं को ‘साष्टांग प्रणाम’ की भी अनुमति नहीं है। श्रद्धालु हाथ जोड़कर सिर्फ ‘नमस्ते’ कर सकते हैं।

अधिकारियों ने बताया कि, इसके अलावा राज्य सरकार की मानक संचालन प्रक्रिया के तहत मंदिर में चढ़ाने के लिए प्रसाद लाने की भी इजाजत नहीं दी जा रही है। राज्य में लॉकडाउन लागू होने के 75 दिन बाद जून में मंदिर और अन्य धार्मिक स्थलों को फिर से खोल दिया गया था। प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग सोमनाथ मंदिर के प्रबंधक विजय सिंह चावड़ा ने कहा कि, सरकारी दिशा-निर्देशों के अनुसार साष्टांग प्रणाम की अनुमति नहीं है। मानक संचालन प्रक्रिया के तहत भक्तों को किसी भी चीज को छूने की इजाजत नहीं है। लोगों को केवल दर्शन के लिए मंदिर के गर्भगृह में जाने की अनुमति है।

चावड़ा ने कहा कि, किसी भी भक्त को दिन में तीन बार होने वाली आरती के लिए मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं है और न ही एक बार में पांच से अधिक भक्तों को बैठकर पूजा करने की अनुमति है। यज्ञ के दौरान तीन से अधिक लोगों को मौजूद रहने की भी इजाजत नहीं है।

बनासकांठा जिले में स्थित गुजरात के प्रसिद्ध अंबाजी माता मंदिर में भी सरकारी दिशा-निर्देशों के मुताबिक, साष्टांग प्रणाम की अनुमति नहीं है। मंदिर के प्रवक्ता आशीष रावल ने कहा कि, भक्तों को थर्मल स्क्रीनिंग के बाद भौतिक दूरी का पालन करते हुए अनिवार्य रूप से मास्क लगाकर ही मंदिर से प्रवेश की अनुमति है।

Related posts