जानिए कितना खतरनाक है कोरोना का डेल्टा प्लस वैरिएंट, आपको बरतनी होंगी ये सावधानियां

चैतन्य भारत न्यूज

देश में कोरोना संक्रमण की दर लगातार कम हो रही है और स्वस्थ होने की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। हालांकि, अलग-अलग देशों में कोरोना के कई वैरिएंट सामने आ रहे हैं, जो चिंता बढ़ाने वाले हैं। ऐसे में लोगों को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है, ताकि यह आगे न फैल पाए।

डेल्टा प्लस क्या है?

नाम से ही काफी हद तक साफ है कि डेल्टा प्लस वेरिएंट, डेल्टा वैरिएंट से म्यूटेट होकर बना है। तकनीकी रूप से कहा जाए तो डेल्टा प्लस को B.1.617.2.1 नाम दिया गया है। इंस्टिट्यूट ऑफ जिनोमिक्स एंड इंटिग्रेटिव बायोलॉजी के डायरेक्टर डॉ. अनुराग अग्रवाल के मुताबिक- डेल्टा प्लस वैरिएंट भी दो तरह के हैं। इन्हें AY.1 और AY.2 का नाम दिया गया है। इन दोनों में एक और नई म्यूटेशन भी नजर आई है जिसे AK417N नाम दिया गया है।

कितना खतरनाक डेल्टा प्लस?

डेल्टा प्लस वेरिएंट को लेकर दुनियाभर के वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं और समझने की कोशिश कर रहे हैं कि ये कितना खतरनाक है। इस वेरिएंट के बारे में उपलब्ध कम जानकारी ही इसे लेकर और ज्यादा खौफ पैदा कर रही है। दरअसल डेल्टा वेरिएंट ने जिस तरह से भारत में अप्रैल और मई के महीने में जबरदस्त तबाही मचाई, उसी देखते हुए आशंका है कि डेल्टा प्लस उससे कहीं ज्यादा संक्रामक और खतरनाक हो सकता है।

ये सावधानिया बरतनी होगी

वैक्सीन लगने के बाद अगर हमने मास्क नहीं लगाया या दो गज की दूरी नहीं रख रहे हैं तो ये कोरोना वायरस किसी भी संक्रमित व्यक्ति के छींकने या खांसने से फैल सकता है। इसलिए टीका लगवाने से पहले भी और बाद में भी कोविड एप्रोप्रियेट बिहेवियर का पालन करना न भूलें।

Related posts