कोरोना वायरस का अब तक नहीं मिला कोई इलाज, फिर भी देश में कैसे ठीक हुए 133 मरीज? जानें

coronavirus, coronavirus

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. कोरोना वायरस का कहर दुनियाभर में जारी है। अब तक पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से साढ़े 8 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हैं और 42 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। भारत में भी कोरोना वायरस ने पैर पसार लिए हैं। देश में 1600 से ज्यादा लोग कोरोना पॉजिटिव हैं और 38 लोगों की मौत हो गई है। हालांकि, 133 मरीज ठीक होकर घर भी लौट गए हैं। बता दें अब तक कोई भी देश कोरोना वायरस का इलाज नहीं ढूंढ पाया है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि फिर भी लोग ठीक कैसे हो रहे हैं?

60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को खतरा

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, कोरोना वायरस संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा उन लोगों को है जिनकी उम्र 60 साल से ज्यादा है। डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, दुनिया के करीब 204 देश कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में हैं। कोरोना वायरस को लेकर डब्ल्यूएचओ का कहना है कि इसकी अब तक कोई दवा उपलब्ध नहीं हो सकी है। कई देश कोरोना वायरस की दवा बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

लक्षणों के आधार पर इलाज

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, फिलहाल कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का इलाज उनके लक्षणों के आधार पर किया जा रहा है। कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने भी गाइडलाइंस जारी की हैं। इनके अनुसार, अलग-अलग लक्षणों वाले लोगों के इलाज के लिए अलग-अलग ट्रीटमेंट बताए गए हैं और दवाओं की मात्रा को लेकर भी सख्त निर्देश हैं।

दवाओं की मात्रा को लेकर सख्त निर्देश जारी

डब्ल्यूएचओ का कहना है कि साधारण खांसी, जुकाम या हल्के बुखार के लक्षण होने पर तुरंत अस्पताल में भर्ती करना जरुरी नहीं है। ऐसे मरीज का इलाज दवाएं देकर भी जारी रखा जा सकता है। दवा की मात्रा और कौन सी दवा किस मरीज को देनी है इसके लिए सख्त निर्देश जारी किए गए हैं। लेकिन जिन मरीजों को निमोनिया या गंभीर निमोनिया हुआ हो, सांस लेने में परेशानी हो, किडनी या दिल से संबंधित बीमारी हो या फिर कोई भी ऐसी समस्या हो जिससे मौत का खतरा हो तो उन्हें तुरंत ही आईसीयू में भर्ती करने और इलाज के निर्देश हैं।

ये भी पढ़े…

निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज में आए 24 लोग पाए गए कोरोना पॉजिटिव, देश में मचा हड़कंप

 कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए आगे आई ये एक्ट्रेस, नर्स बनकर मुंबई के अस्पताल में कर रही लोगों की सेवा

कोरोनावायरस: लॉकडाउन के दौरान पीएम मोदी किस तरह बिता रहे हैं समय, मन की बात में बताया

Related posts