WHO ने कोरोना वायरस को घोषित किया ‘महामारी’, अब तक 4 हजार से ज्यादा लोगों की मौत

coronavirus

चैतन्य भारत न्यूज

जेनेवा. चीन से निकलकर पूरी दुनिया में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस ने अब तक दुनियाभर में 4 हजार से ज्यादा लोगों की जान ले ली है और करीब 1 लाख लोग इस वायरस से संक्रमित हैं। कोरोना वायरस या कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण पर विश्न स्वास्थ्य संगठन ने भी चिंता व्यक्त की। बुधवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर दिया है।



विश्व स्वास्थ्य संगठन के अध्यक्ष टेड्रॉस गेब्रेयेसस ने जेनेवा में कहा कि, ‘कोविड-19 को अब महामारी कहा जा सकता है।’ उन्होंने यह भी कहा कि, ‘हमने कोरोना की ऐसी महामारी कभी नहीं देखी है। हमने ये आंकलन किया है कि कोरोना वायरस (कोविड-19) को एक महामारी के तौर पर देखा जा सकता है।’

क्या होती है महामारी

बता दें जब कोई बीमारी किसी एक देश या सीमा तक सीमित नहीं रहती है और दुनिया के कई देशों में बड़े पैमाने पर फैलने लगती है तो उसको महामारी घोषित किया जाता है। बीमारी को महामारी घोषित करने के लिए कोई तय पैमाना नहीं है। जब कई देशों में स्थानीय स्तर पर आपस में लोगों के बीच कोई बीमारी लगातार फैलने लगती है तब ही उसको महामारी घोषित किया जाता है। किसी भी बीमारी को महामारी घोषित WHO करता है। किसी भी बीमारी को महामारी घोषित कर दिए जाने के बाद सभी देशों की सरकार को एक तरह से अलर्ट किया जाता है। सरकार और हेल्थ सिस्टम को बीमारी से निपटने के लिए विशेष तैयारी करनी पड़ती है।

114 देशों में फैला कोरोना वायरस

जानकारी के मुताबिक, कोरोना वायरस अब तक 114 देशों में फैल चुका है। इस वायरस की वजह से कुल 4,291 लोग जिंदगी गंवा चुके हैं। जबकि हजारों लोग अस्पतालों में जिंदगी मौत से जूझ रहे हैं। कोरोना वायरस की चपेट में भारत भी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में अबतक संक्रमण के 73 मामले सामने आ चुके हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय में कोरोना वायरस को लेकर लगातार कई बैठक की जा रही है।

corona virus treatment

नागरिकों को चेतावनी

भारत ने कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए विदेश से आने वाले लोगों का वीजा 15 अप्रैल तक के लिए रद्द कर दिया है। इस प्रतिबंध से राजनायिकों, अधिकारियों, सयुंक्त राष्ट्र संघ और अंतरराष्ट्रीय संगठनों के कर्मचारियों को छूट मिलेगी। यह प्रतिबंध 13 मार्च 2020 से ही लागू हो जाएगा। साथ ही सरकार ने सभी नागरिकों को यह सलाह दी है कि वे गैरजरूरी विदेशी यात्राएं न करें। यदि वे कहीं से भी यात्रा करके वापस लौटते हैं तो उन्हें कम से कम 14 दिन तक लोगों से अलग रखा जा सकता है।

ये भी पढ़े…

100 साल पहले फैली थी कोरोना वायरस से ज्यादा खतरनाक बीमारी, 5 करोड़ से ज्यादा लोगों की हुई थी मौत!

IPL-2020 पर मंडराए खतरे के बादल, कोरोना वायरस के कारण टाली जा सकती है लीग!

कोरोना वायरस से बचना है तो अपनाएं यह भारतीय परंपरा, जानें नमस्ते करने के फायदें

 

Related posts