गर्भवती पत्नी की परीक्षा दिलाने के लिए पति ने चलाई थी 1200 किमी स्कूटी, अब हवाई जहाज से वापस जाएंगे घर

चैतन्य भारत न्यूज

अपनी गर्भवती पत्नी को परीक्षा दिलाने के लिए 1200 किलोमीटर स्कूटी चलाकर सफर तय करने वाले शख्स की पूरे देश में चर्चा हो रही है। स्कूटी से झारखंड से मध्यप्रदेश इस दंपत्ति को अब घर वापसी के लिए फ्लाइट की टिकट दी गई है। उनके लिए हवाई यात्रा का इंतजाम अडानी फाउंडेशन ने किया है।

झारखंड के गोड्डा जिले के रहने वाले धनंजय ने ग्वालियर में अपनी गर्भवती पत्नी को मध्यप्रदेश के ग्वालियर में परीक्षा दिलाने के लिए तकरीबन 1200 किलोमीटर का सफर तय किया था। धनंजय की पत्नी का नाम सोनी है। वे शिक्षिका बनना चाहती हैं। सोनी ग्वालियर में डीलेड (डिप्लोमा इन एलिमेंट्री एजुकेशन) द्वितीय वर्ष की परीक्षा दे रही हैं। पति 10वीं पास भी नहीं हैं।


धनंजय ने बताया कि अडानी ग्रुप के फाउंडेशन द्वारा हमें ग्वालियर से रांची की हवाई यात्रा का टिकट मिल गया है। यह टिकट 16 सितंबर का है। ग्वालियर से रांची के लिए सीधी उड़ान नहीं है, इसलिए हम दोनों हैदराबाद होकर रांची पहुंचेंगे। इसके बाद रांची से सड़क मार्ग से गोड्डा जाएंगे। इसका इंतजाम गोड्डा के जिलाधिकारी ने किया है।

उन्होंने बताया कि, मेरे स्कूटर को भी भेजने का इंतजाम अडानी फाउंडेशन करेगा। धनंजय ने कहा कि ग्वालियर प्रशासन ने रहने का इंतजाम परीक्षा केंद्र के पास कर दिया है। उन्होंने कहा कि गोड्डा में ही कुछ लोगों ने नौकरी की व्यवस्था करने की बात भी कही है।

पत्नी को परीक्षा दिलाने के लिए धनंजय ने करीब 1176 किमी स्कूटी चलाई और झारखंड, बिहार, उत्तर प्रदेश के विभिन्न् पहाड़ी-मैदानी रास्तों को पार करते हुए मप्र के ग्वालियर पहुंचे। दंपती ने ग्वालियर में ठहरने के लिए दीनदयाल नगर में 1500 रुपए में 10 दिन के लिए कमरा किराए पर लिया था। 11 सितंबर को परीक्षाएं खत्म होने के बाद यह दंपती वापस झारखंड के लिए रवाना होंगे।

Related posts