कोरोना महामारी: हर वर्ष की तरह इस बार नहीं होगा स्वतंत्रता दिवस का कार्यक्रम, PM को सलामी देने वाले जवान क्वॉरंटाइन

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. इस समय देशभर में कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं। कोरोना महामारी के कारण इस बार स्वतंत्रता दिवस समारोह कुछ अलग होगा। 15 अगस्त को लाल किले पर होने वाले कार्यक्रम की तैयारियां इस समय अंतिम चरण पर हैं। सुबह करीब 7:21 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लाल किले पर तिरंगा फहराएंगे। इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले सभी जवान वहीं होंगे जिनका कोविड टेस्ट नेगेटिव आए हैं या फिर कोरोना को हराकर आए हैं।

इस बार छोटा होगा कार्यक्रम

कोरोना महामारी के कारण इस बार स्वतंत्रता दिवस का कार्यक्रम हर बार से छोटा रखा है। जानकारी के मुताबिक, इस बार भी थल सेना, वायुसेना और नौसेना के जवान गार्ड ऑफ ऑनर देंगे जिसमें करीब 22 जवान और अफसर शामिल होंगे। वहीं, राष्ट्रीय सैल्यूट में 32 जवान और अफसर होंगे। साथ में दिल्ली पुलिस के जवान भी होंगे। कोरोना के कारण ये जवान चार पंक्तियों में खड़े होंगे और सोशल डिस्टेंसिंग नियमों को बनाए रखेंगे। पीएम का भाषण 45 मिनट से लेकर डेढ़ घंटे का हो सकता है।

पीएम को सलामी देने वाले जवान पहले से क्वॉरंटाइन

पीएम मोदी को जो जवान सलामी देंगे उन्हें पहले से क्वॉरंटाइन कर दिया गया है। वे लोग सिर्फ परेड रिहर्सल और परेड से जुड़ी तैयारी में हिस्सा ले रहे हैं और सीधे अपने घर जा रहे हैं। दिल्ली पुलिस के स्टाफ को मौखिक तौर पर भी यह आदेश दे दिया गया है। इतना ही नहीं बल्कि प्रधानमंत्री मोदी के करीब जाकर फोटो लेने वाले फोटोग्राफरों का भी कोरोना टेस्ट होगा। रिपोर्ट नेगेटिव आने पर ही उसे फोटो खिंचने का मौका मिलेगा।

सिर्फ 110 VVIP/VIP होंगे शामिल

लाल किला के रेमेपैड पर इस बार सिर्फ 110 के करीब VVIP और VIP मेहमान ही बैठेंगे। बता दें पहले करीब 400 से करीब VVIP/VIP बैठते थे। सभी सुरक्षाकर्मियों के रैपिड कोरोना टेस्ट लाल किला के अंदर किये जा रहे हैं। ये टेस्ट रक्षा मंत्रालय करा रहा है। समारोह में इस बार नीचे फोरग्राउंड पर स्कूली बच्चे नही होंगे। पहले 3500 स्कूली बच्चे होते थे, अब केवल एनसीसी के 500 बच्चे ही होंगे। इनके बीच 6 फ़ीट की दूरी होगी।

Related posts