आतंकी हमले पर सीआरपीएफ का ट्वीट ‘’न भूलेंगे न माफ करेंगे’’

 

चैतन्य भारत न्यूज।

पुलवामा में हुए बड़े आतंकी हमले के बाद सीआरपीएफ ने ट्वीट किया है, जिसमें लिखा है ”न भूलेंगे न ही माफ करेंगे, हमले में शहीदों को हमारा नमन, हम हमेशा शहीदों के परिवार के साथ खड़े हैं।”

40 जवान हुए हैं शहीद

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में गुरुवार को जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी ने विस्फोटकों से लदे वाहन से सीआरपीएफ जवानों की बस को टक्कर मार दी, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए जबकि कई गंभीर रूप से घायल हैं।

पाकिस्तान से छीना मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन (एमएफएन) का दर्जा वापस ले लिया गया है। बता दें डब्ल्यूटीओ बनने के साल भर बाद भारत ने पाकिस्तान को 1996 में एमएफएन का दर्जा दिया था।

मोस्ट फेवर्ड नेशन क्या है?

मोस्ट फेवर्ड नेशन के तहत आश्वासन रहता है कि उसे कारोबार में नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा। विश्‍व व्‍यापार संगठन और इंटरनेशनल ट्रेड नियमों के आधार पर व्यापार में सर्वाधिक तरजीह वाला देश (एमएफएन) का दर्जा दिया जाता है। एमएफएन के तहत आयात-निर्यात में आपस में विशेष छूट मिलती है।यह दर्जाप्राप्त देश में कारोबार सबसे कम आयात शुल्क पर होता है।

      बैठक में लिए बड़े फैसले

  • पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस ले लिया गया है।
  • अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने के लिए बात की जाएगी।
  • गृह मंत्री राजनाथ सिंह शनिवार को सर्वदलीय बैठक में पुलवामा हमले पर विपक्षी पार्टियों से विस्तार में चर्चा करेंगे।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सेना को खुली छूट दे दी है। उन्होंने आतंकवाद के खिलाफ खुली जंग छेड़ दी है, उन्होंने कहा कि आतंकवादी बहुत बड़ी गलती कर चुके हैं।
  • उन्होंने साफ कहा कि उनके इस कायरतापूर्ण कृत्य का करारा जवाब मिलेगा।

वंदे भारत एक्सप्रेस की लॉन्चिंग के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में पीएम ने कहा, ‘पड़ोसी मुल्क ने बहुत बड़ी गलती कर दी है। देश ऐसे हमलों का डटकर मुकाबला करेगा। पाकिस्तान को बहुत बड़ी कीमत चुकानी होगी।’ उन्होंने कहा कि सुरक्षाबलों को पूरी छूट दे दी गई है।

यह भी पढ़ें…

पुलवामा आतंकी हमलाः पाकिस्तान से वापस लिया मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा, मोदी बोले कर दी बहुत बड़ी गलती

 गुनहगारों को मिलेगी सजा

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘आंतकी संगठनों को मैं कहना चाहता हूं कि वे बहुत बड़ी गलती कर चुके हैं और उन्हें इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी। देश को भरोसा देता हूं कि हमले के पीछे जो भी ताकतें हैं, जो भी गुनहगार हैं, उन्हें उनके किए की सजा जरूर मिलेगी। अब आतंक के खिलाफ लड़ाई तेज होगी।

 

 

 

 

 

Related posts