क्रिप्टोकरेंसी CEO की भारत में मौत, किसी को नहीं मिला पासवर्ड, 1000 करोड़ की करेंसी फंसी

चैतन्य भारत न्यूज।
पिछले साल कनाड़ा के सबसे बडे क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज के संस्थापक गेराल्ड कोटेन की 9 दिसंबर को भारत दौरे के दौरान मौत हो गई थी। खास बात यह है कि उनकी मौत के बाद खातों का पासवर्ड भी उन्हीें के साथ चला गया। बता दें कि पासवर्ड न होने से क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्वैड्रिगा 190 मिलियन डॉलर के बिटकॉइन एवं अन्य संपत्तियों की खरीद बिक्री करने में असमर्थ हो गई हैं। इसमें 5.0 करोड़ डॉलर की हार्ड करेंसी भी शामिल है।

खातों का पासवर्ड सिर्फ कोटेन के पास
कंपनी का कहना है कि कोटेन ही निवेश, क्वॉइन और फ़ंड से जुड़े कामकाज देखते थे। और एक्सचेंज के खातों का पासवर्ड सिर्फ उन्हीं को ही मालूम था।

अनाथालय में स्वयंसेवक के तौर पर कर रहे थे काम
कोटेन भारत में एक अनाथालय के लिये स्वयंसेवक के तौर पर काम कर रहे थे। इसी दौरान उन्हें आंत ​की बीमारी हो गई और उनकी अचानक मौत हो गयी। उनकी उम्र महज 30 साल थी।

हैकरों से बचने के लिए ऑफलाइन रखी थी मुद्राएं
कंपनी के मुताबिक क्वैड्रिगा के पास रखी हुईं अधिकांश मुद्राएं कोल्ड वैलेट खातों में ऑफलाइन रखी गईं थी और यह सिर्फ हैकरों से बचने के लिये किया गया था।

Related posts