चक्रवात ‘यास’ का तांडव, तट से टकराया, बंगाल-ओडिशा के रहवासी क्षेत्र में घुसा पानी, बाढ़ जैसे हालात

चैतन्य भारत न्यूज

बंगाल की खाड़ी से उठा चक्रवाती तूफान यास बेहद रौद्र रूप धारण कर चुका है। जानकारी के मुताबिक ‘यास’ ने बालासोर के दक्षिण में उत्तर ओडिशा तट को पार कर लिया है। इस दौरान अनुमानित हवा की गति 130-140 किमी प्रति घंटे से 155 किमी प्रति घंटा रही। इसी के साथ ओडिशा में लैंडफॉल की प्रक्रिया पूरी हो गई है। हालांकि अभी ओडिशा, बंगाल और आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों में यास तूफान के असर को लेकर अलर्ट जारी है।


बंगाल और ओडिशा के अलावा बिहार, झारखंड, तमिलनाडु और कर्नाटक में भी तूफान का असर है।मौसम विभाग के अनुसार, सुबह 9 बजे से लैंडफॉल की प्रक्रिया जारी है। इस दौरान तेज हवाएं चल रही हैं, समंदर में ऊंची-ऊंची लहरें उठ रही हैं और रिहायशी इलाकों में पानी घुस गया है। ओडिशा के चांदीपुर और बालासोर तो बंगाल के दक्षिण 24 परगना जिले में तूफान सबसे ज्यादा प्रभावी है। बंगाल के दीघा और मंदार्मानी में होटलों और दुकानों में समुद्र का पानी भर गया है।

लैंडफॉल और दुकानों को भारी नुकसान 

ओडिशा में लैंडफॉल के बाद नावों और दुकानों को भारी नुकसान पहुंचा। पश्चिम बंगाल-ओडिशा सीमा के पास उदयपुर में हवा ने कई चेक पोस्ट बैरिकेड्स उड़ा दिए।

रिहायशी इलाकों में घुसा समंदर का पानी

तूफान के मद्देनजर कई राज्यों में अलर्ट जारी कर दिया गया है। ओडिशा के समंदर में ऊंची लहरें उठ रही हैंं। धामरा (Dhamra) और भद्रक ( Bhadrak) जिलों में भारी बारिश और समंदर के ऊफान से रिहायशी इलाकों के घरों में पानी घुस गया है।

Related posts