दिल्ली में खतरनाक स्तर पर पहुंचा प्रदूषण, हेल्थ इमरजेंसी घोषित, 5 नवंबर तक बंद रहेंगे स्कूल

delhi pollution

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली में प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ता जा रहा है जिससे हालात बेकाबू हो गए हैं। दिल्ली के कई इलाको में हवा जहरीली हो गई है। इसी को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त EPCA यानी पर्यावरण प्रदूषण (रोकथाम और नियंत्रण) प्राधिकरण ने पूरे क्षेत्र में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित कर दी है। इमरजेंसी घोषित होने के बाद 5 नवंबर तक दिल्ली-एनसीआर में किसी भी तरह का निर्माण कार्य और पटाखे जलाना प्रतिबंधित होगा।


5 नवंबर तक के लिए बंद स्कूल बंद

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी सभी स्कूलों को 5 नवंबर तक के लिए बंद कर दिया है। इसकी जानकारी उन्होंने ट्वीट कर दी है। केजरीवाल ने ट्वीट में पराली जलाने (stubble burning) को प्रदूषण बढ़ने का कारण बताया है। केजरीवाल ने ट्वीट में लिखा कि, ‘दिल्ली में पराली के बढ़ते धुएं के चलते प्रदूषण का स्तर बहुत ज्यादा बढ़ गया है। इसलिए सरकार ने निर्णय लिया है कि दिल्ली के सभी स्कूल 5 नवंबर तक बंद रहेंगे।’ दिल्ली पर छाए प्रदूषण के बीच इन्वाइरनमेंट पॉल्यूशन कंट्रोल अथॉरिटी (EPCA) की तरफ से दिल्ली-एनसीआर की 19 जगहों को खासतौर पर चिन्हित किया गया है। इन सभी 19 जगहों पर प्रदूषण कंट्रोल करने के लिए ईपीसीए की खास निगरानी रहेगी।

मनोज तिवारी ने किया था ट्वीट

बता दें स्कूलों में छुट्टी की घोषणा करने से पहले बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने ट्वीट कर कहा था कि, ‘अरविंद केजरीवाल जी दिल्ली का पॉल्यूशन लेवल इमरजेंसी स्टेज पर है। मासूम बच्चों के जीवन से मत खेलिये। अंतिम साल में फोटो खिंचवाने के लिए मास्क बांटने का नाटक बंद कीजिए। हमने भी MCD के स्कूलों में छुट्टी के लिए आग्रह किया है और आप भी स्कूलों में तत्काल प्रभाव से छुट्टी का आदेश दीजिए।’ साथ ही तिवारी ने यह भी कहा था कि, ‘आज दिल्ली में मेरी आंखें जल रही है और आपकी? मुझे दिल्ली वासियों की बहुत चिंता हो रही है। कृपया अपना, अपने बच्चों का, माता पिता का ध्यान रखें।’

पराली जलाने से बढ़ा प्रदूषण

बता दें दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को लेकर मुख्यमंत्री केजरीवाल ने पंजाब-हरियाणा की सरकारों पर निशाना साधा था और कहा था कि, ‘दोनों सरकारें अपने किसानों को पराली जलाने के लिए मजबूर कर रही हैं।’ दिवाली के दिन से ही दिल्ली में प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है। इंडिया सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फॉरकास्टिंग एंड रिसर्च (SAFAR) के मुताबिक, दिल्ली और उसके आसपास के इलाकों में दूषित हवा के लिए जिम्मेदार कारकों में पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने की घटनाओं का 27 प्रतिशत योगदान है।

ये भी पढ़े… 

दिल्ली-NCR में खतरनाक स्तर पर पहुंचा प्रदूषण, आज सुबह और जहरीली हुई हवा, नासा ने जारी की तस्वीर

दिल्ली : इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर लावारिस बैग में मिला RDX, मचा हड़कंप

पत्नियों से दुखी देशभर के हजारों पीड़ित पति पहुंचे दिल्ली, की पुरुष-आयोग बनाने की मांग

Related posts