दिल्ली में प्रदूषण का कहर, सांस लेना हुआ मुश्किल, कई इलाकों में प्रदूषण का लेवल 1200 के पार

delhi air pollution

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. दिल्ली में प्रदूषण लगातार खतरनाक स्तर को पार करता जा रहा है। राजधानी के कई इलाकों में एयर क्वालिटी इंडेक्स 900 के पार पहुंच गया है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रदूषण को रोकने के लिए केंद्र सरकार से राहत व बचाव कार्य करने की अपील भी की है।


बता दें एयर क्वालिटी इंडेक्स हवा में प्रदूषण नापने का एक मानक है। अच्छी हवा 100 तक मानी जाती है. 100-400 तक प्रदूषण माना जाता है और 400 से ज्यादा गंभीर प्रदूषण बन जाता है। जानकारी के मुताबिक, केजरीवाल ने कहा कि, ‘पूरे देश में प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है। दिल्ली सरकार ने कई कदम उठाए हैं। बिना कुछ किए दिल्लीवासियों को खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। केंद्र सरकार को राहत व बचाव के लिए कदम उठाना चाहिए। हम केंद्र सरकार की हर पहल का समर्थन करेंगे।प्रदूषण पर सीएम ने बुलाई आपात बैठक’। बढ़ते प्रदूषण को लेकर पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने भी अपनी चिंता व्यक्त की है। बताया जा रहा है कि अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए आपात बैठक बुलाई है। यह बैठक सीएम आवास पर होगी जिसमें कई अधिकारी और मंत्री मौजूद रहेंगे। इस दौरान प्रदूषण को रोकने के उपायों को लेकर चर्चा होगी।


आम आदमी पार्टी की नेता आतिशी ने बढ़ते प्रदूषण को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि, ‘सैटेलाइट से ली गई तस्वीर दिखाती है कि भारत का लगभग आधा हिस्सा एक जहरीले स्मॉग की चपेट में है। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को बताना चाहिए कि इसे रोकने के लिए उन्होंने पिछले 6 महीनों में क्या कदम उठाए हैं? आप क्या कदम उठाने जा रहे हैं कि फिर कभी ऐसा न हो?’


बता दें रविवार को दिल्ली-एनसीआर में हल्की बारिश भी हुई बावजूद इसके हवा की गुणवत्ता बेहद खतरनाक बनी हुई है। नोएडा, गाजियाबाद, गुरुग्राम और फरीदाबाद में भी हवा जहरीली बनी हुई है। अचानक से बढ़े इस प्रदूषण का कारण पंजाब, हरियाणा और दिल्ली के सीमाई इलाकों में पराली जलाए जाना बताया जा रहा है। पर्यावरण वैज्ञानिकों का कहना है कि, ‘दिल्ली में प्रदूषण हवा की दिशा के कारण बढ़ रहा है क्योंकि हवा हरियाणा और पंजाब जैसे राज्यों की तरफ से दिल्ली की तरफ आ रही है तो शायद उसमें पराली का धुंआ और ज्यादा लाया है।’

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त EPCA यानी पर्यावरण प्रदूषण (रोकथाम और नियंत्रण) प्राधिकरण ने शुक्रवार को पूरे क्षेत्र में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित कर दी है। इमरजेंसी घोषित होने के बाद 5 नवंबर तक दिल्ली-एनसीआर में किसी भी तरह का निर्माण कार्य और पटाखे जलाना प्रतिबंधित होगा। साथ ही सीएम केजरीवाल ने भी सभी स्कूलों को 5 नवंबर तक के लिए बंद कर दिया है।

ये भी पढ़े…

दिल्ली में खतरनाक स्तर पर पहुंचा प्रदूषण, हेल्थ इमरजेंसी घोषित, 5 नवंबर तक बंद रहेंगे स्कूल

दिल्ली-NCR में खतरनाक स्तर पर पहुंचा प्रदूषण, आज सुबह और जहरीली हुई हवा, नासा ने जारी की तस्वीर

Related posts