निर्भया दुष्कर्म: दिल्ली के उपराज्‍यपाल ने ठुकराई मुकेश की दया याचिका, राष्ट्रपति का फैसला आना बाकी

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. निर्भया सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के मामले में दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने निर्भया के दोषी मुकेश की दया याचिका को ठुकरा दिया है। अब मुकेश की दया याचिका गृह मंत्रालय के पास जाएगी और फिर वहां से इसे राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा।


दिल्ली हाई कोर्ट की तीखी टिप्पणी

बता दें निर्भया के चारों दोषियों को 22 जनवरी को सुबह 7 बजे फांसी दी जानी है। इससे पहले ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद मुकेश की दया याचिका पर अंतिम फैसला लेंगे। बता दें निचली अदालत ने चारों दोषियों की फांसी की तारीख 22 जनवरी तय की है, जिसके बाद मुकेश ने दिल्ली हाई कोर्ट में डेथ वारंट को चुनौती दी थी। हाई कोर्ट ने तीखी टिप्पणी करते हुए मुकेश को निचली अदालत में अर्जी दाखिल करने को कहा था। इसके बाद मुकेश ने 15 जनवरी को पटियाला हाउस कोर्ट में डेथ वारंट के खिलाफ अर्जी दाखिल की है।

निर्भया की मां का छलका दर्द

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुकेश की अर्जी को तत्काल ठुकराते हुए उपराज्‍यपाल अनिल बैजल के पास भेज दी थी। जिसके बाद गुरुवार को उपराज्यपाल ने भी मुकेश की दया याचिका को खारिज करने की सिफारिश के साथ उसे गृह मंत्रालय के पास भेज दिया। दूसरी ओर निर्भया की मां आशा देवी ने कहा कि, ‘मैं पिछले सात सालों से संघर्ष कर रही हैं। लेकिन अब तक मेरी बेटी के दोषियों को फांसी नहीं मिली है।’

ये भी पढ़े…

निर्भया के दोषियों को 22 जनवरी को नहीं दी जा सकती फांसी, दिल्‍ली सरकार के वकील की कोर्ट में दलील

निर्भया केस: सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की दोषी मुकेश और विनय की क्यूरेटिव पिटीशन, 22 जनवरी को फांसी का रास्ता साफ!

निर्भया केस: मां से लिपटकर फूट-फूटकर रोने लगा दोषी, सताने लगा मौत का डर

Related posts