सांसों में रुकावट पर हाई कोर्ट की दो टूक- ये कोरोना की सुनामी है, ऑक्सीजन सप्लाई में यदि रुकावट आई तो अफसर को फांसी पर चढ़ा देंगे

चैतन्य भारत न्यूज

ऑक्सीजन की कमी को लेकर शनिवार को एक के बाद एक करके 4 अस्पताल दिल्ली हाई कोर्ट पहुंच गए। हाई कोर्ट में उन्होंने मरीजों की जान बचाने के लिए तत्काल ऑक्सीजन मुहैया कराने की मांग की। ऑक्सीजन की किल्लत को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट कितना नाराज है, इसका अंदाजा उसके एक कमेंट से लगा सकते हैं।

हाई कोर्ट में सुनवाई के दौरान केंद्र और दिल्ली के वकीलों के बीच जमकर बहस हुई। कोर्ट ने भी इसे लेकर सख्ती दिखाई। हाई कोर्ट में महाराजा अग्रसेन अस्पताल के अलावा जयपुर गोल्डन अस्पताल, सरोज अस्पताल और बत्रा अस्पताल ने भी याचिका लगाई थी।

हाई कोर्ट ने सुनवाई के बाद अपने आदेश में कहा कि, ‘दिल्ली सरकार को ऑक्सीजन टैंकरों की खरीद के लिए हर संभव प्रयास करने होंगे। हम दोनों सरकारों के अधिकारियों से बातचीत और समन्वय की उम्मीद करते हैं। हम सभी ऑक्सीजन सप्लायर्स को निर्देशित करते हैं कि वे दिल्ली के अस्पतालों में दिए जाने वाले ऑक्सीजन का पूरा विवरण उपलब्ध करवाएं। हाईकोर्ट ने शनिवार को सख्त लहजे में कहा कि, ‘अगर कोई केंद्र सरकार, राज्य सरकार या फिर स्थानीय प्रशासन के किसी अधिकारी ने ऑक्सीजन सप्लाई में रुकावट डाली तो उसे फांसी पर चढ़ा देंगे।’

हाईकोर्ट ने कहा- किसी को नहीं बख्शेंगे

हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार से कहा कि ऑक्सीजन सप्लाई में रुकावट डालने से जुड़ी कोई एक घटना बता दें, हम उसे सूली पर चढ़ा देंगे। हम किसी को बख्शेंगे नहीं। कोर्ट ने कहा कि दिल्ली सरकार स्थानीय प्रशासन के ऐसे अफसरों के बारे में केंद्र को बताए, ताकि उनके खिलाफ कार्रवाई की जा सके।

केंद्र से सवाल- दिल्ली को पूरी ऑक्सीजन कब मिलेगी?

हाईकोर्ट ने केंद्र से पूछा, ‘दिल्ली को हर दिन 480 मीट्रिक टन ऑक्सीजन अलॉट करने की बात हकीकत कब बनेगी? जबकि आपने 21 अप्रैल को यह भरोसा दिया था।’ यह सवाल तब उठा जब दिल्ली सरकार की तरफ से कहा गया कि उसे पिछले कुछ दिनों से हर रोज सिर्फ 380 मीट्रिन टन ऑक्सीजन मिल रही थी और शुक्रवार को तो 300 मीट्रिक टन ही मिली थी।

मौजूदा स्थिति को देखते हुए कोर्ट ने यह सिफारिश भी की है कि जरूरी हो तो अस्पतालों को सुरक्षा मुहैया करवाएं। कोर्ट ने कहा कि हम यह बात समझते हैं कि किसी करीबी को खोने पर लोग कैसे रिएक्ट करते हैं।इसे कानून व्यवस्था का मसला न बनने दें।

हाईकोर्ट ने पूछा- कोरोना का पीक आने पर कैसे निपटेंगे?

कोर्ट ने यही भी कहा कि इस मुद्दे का दूसरा पहलू अखबारों में देखने को मिल रहा है। IIT दिल्ली के मुताबिक मई के मध्य में कोरोना का पीक आएगा। यह सुनामी है। कोर्ट ने पूछा कि हम क्या तैयारियां कर रहे हैं? मई मध्य की स्थिति से निपटने के लिए हमने अब तक क्या किया है?

Related posts