सद्दाम हुसैन का नुस्खा अपनाकर सास-साली और पत्नी को दे दिया थैलियम जहर, हफ्तों बाद एक-एक कर हुईं मौतें, पत्नी कोमा में

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. देश की राजधानी से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां एक बिल्डर वरुन अरोड़ा को दिल्ली पुलिस ने अपने ससुरालवालों को थैलियम जहर देने के आरोप में गिरफ्तार किया है। ये वारदात दिल्ली के इंद्रपुरी इलाके में हुई।

ससुरालवालों को तड़पा-तड़पाकर मार डाला

दिल्ली के इंद्रपुरी इलाके में एक दामाद ने अपने ससुरालवालों को मछली में मिलाकर थैलियम नाम का धीमा जहर दे दिया। जिससे उनकी सास और साली की तड़प-तड़पकर मौत हो गई और पत्नी 26 दिनों से कोमा में पड़ी हुई है।

ऐसे दिया वारदात को अंजाम

थैलियम नाम का ये धीमा जहर मछली के जरिए ससुरालवालों के शरीर में गया और सभी की तबीयत बिगड़नी शुरु हो गई। सभी के तेजी से बाल झड़ने लगे, शरीर सुन्न पड़ने लगा और दिमाग सोचने समझने की शक्ति गंवाने लगा।वरुण के ऊपर सभी ससुरालवालों को खत्म करने का जुनून इस कदर सवार था कि उसने सास-ससुर और पत्नी को मछली खिलाने के बाद अपनी साली का काफी देर इंतजार किया। फिर अपनी आंखों के सामने उसे धीमे जहर वाली मछली खिलाकर ही घर से बाहर निकला।

ऐसे आया आईडिया

हैरान कर देने वाली बात ये है कि इस दामाद ने साजिश की प्रेरणा इराक के तानाशाह सद्दाम हुसैन से ली। दरअसल, वरुण ने Google पर सर्च किया, ‘How To Kill Person With Slow Poison।’ इसके बाद वरुण को थैलियम नाम के धीमे जहर के बारे में पता चला। सद्दाम हुसैन भी अपने विरोधियों को मारने के लिए थैलियम का इस्तेमाल करता था। वरुण ने पुलिस को बताया कि उसने ये जहर 22 हजार में खरीदा था।

ससुरालवालों से इसलिए नाराज था आरोपी

वरुण और दिव्या के IVF तकनीक से 2 बच्चे हुए थे। इसके बाद दिव्या प्राकृतिक ढंग से गर्भवती हो गई। लेकिन डॉक्टर्स ने कहा कि अगर वो बच्चों को जन्म देगी तो उसकी जान को गंभीर खतरा है। लेकिन वरुण का परिवार ये बच्चा चाहता था क्योंकि उसे अंधविश्वास था कि बच्चे के जरिए वरुण के पिता का पुनर्जन्म होने वाला है। लेकिन तीसरे बच्चे को जन्म देने से जान के खतरे को देखते हुए दिव्या ने अबॉर्शन करवा लिया। इसी से नाराज होकर वरुण ने ससुराल के सभी लोगों की हत्या करने का फैसला कर लिया।

Related posts