डेथ वारंट जारी न होने पर रो पड़ीं निर्भया की मां, कोर्ट के बाहर जमकर की नारेबाजी

nirbhaya case, delhi,

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. निर्भया के दोषियों को फांसी की नई तारीख आज फिर जारी नहीं हुई। कोर्ट इस मामले में अब गुरुवार को अगली सुनवाई करेगा। कोर्ट ने कहा कि दोषी पवन के पिता को गुरुवार को कोर्ट द्वारा लीगल ऐड से वकील मिल जाएगा जिसके बाद मामले की सुनवाई की जाएगी।



इस दौरान कोर्ट में पेश हुई निर्भया की मां वहीं रो पड़ीं और जज से दोषियों के नाम डेथ वारंट जारी करने की अपील की। उन्होंने अदालत से पूछा कि, ‘मेरे अधिकारों का क्या होगा? मैं हाथ जोड़कर आपके सामने खड़ी हूं। कृपया डेथ वारंट जारी कर दीजिए। मैं भी इंसान हूं। सात साल से भी ज्यादा का समय हो चुका है…’ और ये कहते-कहते ही वह अदालत के अंदर ही रो पड़ीं। वहीं निर्भया के पिता भी भावुक होकर कोर्ट में बोल पड़े कि, ‘निर्भया के साथ अन्याय हो रहा है। आपकी डयूटी है अन्याय न हो।’

इतना ही नहीं बल्कि निर्भया के माता-पिता और महिला कार्यकर्ता योगिता भयाना समेत अन्य ने बुधवार को दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट के बाहर नारेबाजी की। उन्होंने ‘निर्भया के हत्यारों को फांसी दो…फांसी दो’, निर्भया को न्याय दो…न्याय दो न्याय दो, ‘अभी नहीं तो कभी नहीं’ और ‘वी वांट जस्टिस’ के नारे लगाए।


बता दें तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने मंगलवार को निचली अदालत में एक स्थिति रिपोर्ट दाखिल कर कहा था कि किसी भी दोषी ने पिछले सात दिनों में कोई कानूनी विकल्प नहीं चुना है, जो समय सीमा दिल्ली हाई कोर्ट ने दी थी। इन चारों दोषियों में मुकेश कुमार सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय कुमार शर्मा (26) और अक्षय कुमार (31) शामिल हैं।

गौरतलब है कि कोर्ट ने हाईकोर्ट के 5 फरवरी के आदेश का संज्ञान लिया था, जिसमें दोषियों को एक हफ्ते के अंदर अपने सभी कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल करने की इजाजत दी गई थी। ये चारों तिहाड़ जेल में कैद हैं।

ये भी पढ़े…

निर्भया केस: कोर्ट का नया डेथ वारंट जारी करने से इनकार, कहा- जब कानून जिंदा रहने की इजाजत देता है तो फांसी देना पाप

7 साल बाद भी झकझोर कर रख देता है निर्भया कांड, जानें उस काली रात की पूरी कहानी

निर्भया केस: दोषी मुकेश का बड़ा खुलासा- जेल में मुझे अक्षय के साथ शारीरिक संबंध बनाने को कहा गया

Related posts