देशहित के लिए लोगों की नाराजगी और गुस्सा झेलना पड़ता है- पीएम मोदी

pm modi,narendra modi,assam

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ देशभर में विरोध के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को दिल्ली के एक कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि देश के लिए काम करने में काफी गुस्सा झेलना पड़ता है, कई लोगों की नाराजगी झेलनी पड़ती है। इसके अलावा कई आरोपों से गुजरना पड़ता है।

जानकारी के मुताबिक, पीएम मोदी ने ये बात ASSOCHAM के कार्यक्रम में अर्थव्यवस्था, GST और ‘इज ऑफ डूइंग’ की रैंकिंग को लेकर कही। असोसिएशन ऑफ चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया (एसोचैम) की स्थापना के 100 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में कार्यक्रम का आयोजन किया गया था, जहां पीएम मोदी ने कहा कि, इंसान हो या फिर संस्था, 100 वर्ष का अनुभव बहुत बड़ी पूंजी होता है। मैं एसोचैम के सभी सदस्यों को इस महत्वपूर्ण पड़ाव पर बधाई और शुभकामनाएं देता हूं।

इसके अलावा उन्होंने कहा कि, ‘भारत की अर्थव्यवस्था तय नियमों से चले इसके लिए हमने व्यवस्था में परिवर्तन किया है। आज 5 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनोमी के लिए मजबूत आधार बना है। जब तक पूरा देश मिलकर लक्ष्य को तय नहीं करता है, तब तक लक्ष्य पूरा नहीं होता। जब मैंने इस लक्ष्य को रखा तो पता था कि इसका विरोध होगा और कहा जाएगा कि भारत ये नहीं कर सकता।’

पीएम मोदी ने कहा कि, ‘जब 2014 से पहले के वर्षों में अर्थव्यवस्था तबाह हो रही थी, उस समय अर्थव्यवस्था को संभालने वाले लोग किस तरह तमाशा देख रहे थे, ये देश को कभी नहीं भूलना चाहिए। उन्होंने कहा कि तब अखबारों में किस तरह की बात होती थी, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की साख कैसी थी, इसे आप भली-भांति जानते हैं।’

ये भी पढ़े…

नागरिकता कानून को लेकर देशभर में बवाल, UP के गाजियाबाद, मेरठ, बरेली समेत 14 जिलों में इंटरनेट सेवाएं बंद

बीजेपी ने जारी किया 16 साल पुराना वीडियो, जब मनमोहन सिंह ने की थी बांग्‍लादेश शरणार्थियों को नागरिकता देने की अपील

नागरिकता कानून के खिलाफ आज भारत बंद, देशभर में प्रदर्शन जारी, कई जगह धारा 144 लागू

Related posts