JNU हिंसा: दिल्ली पुलिस ने जारी किए 9 संदिग्धों के नाम व तस्वीरें, छात्र संघ अध्यक्ष आइशी घोष भी शामिल

delhi police jnu

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली स्थित जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में रविवार रात हुई हिंसा के मामले में दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को संदिग्धों की तस्वीर जारी की है। दिल्ली पुलिस के पीआरओ एमएस रंधावा ने तस्वीर और नाम जारी करते हुए कहा है कि अभी मामले की जांच चल रही है। आरोपियों में जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आईशी घोष, चुनचुन कुमार, डोलन समान्ता, विकास विजय, प्रिया रंजन, सुचेता तालुकदार, पंकज मिश्रा, योगेंद्र भारद्वाज, विकास पटेल के नाम हैं।


सीसीटीवी की मदद से जुटाए सबूत

दिल्ली पुलिस के मुताबिक, इन सभी लोगों के खिलाफ सबूत जुटाने में सीसीटीवी कैमरों ने मदद की। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच के डीसीपी जॉय टिर्की ने कहा कि, ‘इस मामले में किसी भी संदिग्ध को हिरासत में नहीं लिया गया है, लेकिन जल्द हम उनसे पूछताछ शुरू कर सकते हैं।’ उन्होंने यह भी कहा कि, ‘हिंसा को लेकर तीन केस दर्ज किए गए हैं और हम उनकी जांच कर रहे हैं।’

आइशी घोष का बयान

तस्वीर जारी होने के बाद आइशी घोष ने कहा कि, ‘मुझे कानून-व्यवस्था पर पूरा भरोसा है कि जांच निष्पक्ष होगी। मुझे न्याय मिलेगा। लेकिन दिल्ली पुलिस पक्षपात क्यों कर रही है? मेरी शिकायत एफआईआर के रूप में दर्ज नहीं की गई है। मैंने कोई मारपीट नहीं की है।’ उन्होंने यह भी कहा कि, ‘दिल्ली पुलिस अपनी जांच कर सकती है। मेरे पास यह दिखाने के लिए सबूत भी हैं कि मुझ पर कैसे हमला किया गया।’

‘जांच को लेकर गलत जानकारी फैलाई जा रही’

डीसीपी जॉय टिर्की ने यह भी बताया कि, ‘मामले की जांच को लेकर कई तरह की गलत जानकारी फैलाई जा रही है। 1 जनवरी से लेकर 5 जनवरी तक रजिस्ट्रेशन होना था। हालांकि SFI, AISA, AISF और DSF छात्र संगठनों ने छात्रों को रजिस्ट्रेशन करने से रोका। रजिस्ट्रेशन करने वाले छात्रों को धमकाया जा रहा था। इसके बाद विवाद लगातार बढ़ता गया और फिर 5 जनवरी को पेरियार व साबरमती हॉस्टल के कुछ कमरों में हमला किया गया।’

हिंसा की प्लानिंग के लिए व्हाट्सऐप बना

जॉय टिर्की के मुताबिक, संस्थान में हिंसा करने के लिए व्हाट्सऐप ग्रुप बनाया गया था। नकाबपोश यह भी जानते थे कि उन्हें किस कमरे में जाना है। हालांकि अब तक हिंसा के सीसीटीवी फुटेज नहीं मिले हैं। लेकिन वायरल वीडियो के जरिए पुलिस ने आरोपियों की पहचान की है। दिल्ली पुलिस ने इस मामले में 30-32 गवाहों से भी बातचीत की है।

यह है मामला

बता दें जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय परिसर में रविवार रात को उस वक्त हिंसा भड़क गई थी जब लाठियों से लैस कुछ नकाबपोश लोगों ने छात्रों तथा शिक्षकों पर हमला किया, परिसर में संपत्ति को नुकसान पहुंचाया जिसके बाद प्रशासन को पुलिस को बुलाना पड़ा।

ये भी पढ़े…

JNU छात्रों को समर्थन देने पहुंची दीपिका पादुकोण, सोशल मीडिया पर छिड़ी जंग

JNU हिंसा को लेकर देशभर में बवाल, अब अहमदाबाद में ABVP-NSUI कार्यकर्ताओं के बीच भिडंत

JNUSU अध्यक्ष आइशी घोष समेत 19 छात्रों के खिलाफ दर्ज की FIR, सर्वर रूम में तोड़फोड़ का आरोप

 

Related posts