कोटा: बच्चों की मौत पर बवाल, सचिन पायलट ने किया अस्पताल का दौरा, सीएम गहलोत पर साधा निशाना

sachin pilot

चैतन्य भारत न्यूज

कोटा. राजस्थान के कोटा शहर में बच्चों की मौत का आंकड़ा 107 तक पहुंच चुका है। मामले की गंभीरता देख राज्य के उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने शनिवार को जेके लोन अस्पताल का दौरा किया। इसके बाद उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधते हुए कहा कि, हमें जिम्मेदारी तय करनी होगी।


कोटा: 107 मासूमों की मौत के बाद सरकार ने लिया एक्शन, अस्पताल में आएंगे 8 वेंटिलेटर

मृत बच्चों के परिवार से की मुलाकात

सचिन पायलट ने कहा कि, ‘पहले क्या हुआ इस पर चर्चा नहीं होनी चाहिए। वसुंधरा को जनता ने हरा दिया लेकिन अब जिम्मेदारी हमारी है।’ उन्होंने आगे कहा कि, ‘सरकार आंकड़ों में फंसाकर जिम्मेदारी से बच नहीं सकती, जवाबदेही तय करनी होगी। सरकार को ऐसे मामलों में और अधिक संवेदनशील होना होगा। 13 महीने से सरकार में होने के बाद बच्चों की मौत के लिए पुरानी सरकार के रवैये को जिम्मेदार ठहराना उचित नहीं।’ सचिन पायलट ने मृत बच्चों के परिवार से भी मुलाकात की।

NHRC ने सरकार को जारी किया नोटिस

शिशुओं की लगातार हो रही मौत पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) ने राज्य सरकार से जवाब तलब करते हुए नोटिस भी जारी किया है। आयोग ने इस मामले में राज्य सरकार से चार सप्ताह में रिपोर्ट मांगी है।

कोटा में 104 बच्चों की मौत पर भड़कीं मायावती, की मुख्यमंत्री गहलोत को बर्खास्त करने की मांग

हाइपोथर्मिया के कारण हुई इतने मौतें

बता दें बच्चों की मौत का कारण पता लगाने के लिए एक जांच समिति गठित की गई थी। समिति ने अपनी रिपोर्ट में मौत का मुख्य कारण हाइपोथर्मिया बताया है और इससे बच्चों को बचाने के लिए अस्पताल में मौजूद हर आवश्यक उपकरण खराब है। राजस्थान के चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने शुक्रवार को जेके लोन अस्पताल का दौरा किया और उन्होंने अस्पताल में जरुरी उपकरण जैसे- 8 वेंटिलेटर, 28 रेग्यूलाईजर, 10 पल्स ऑक्सीमीटर भी खरीदने की अनुमति दी।

ये भी पढ़े…

कोटाः 104 मासूमों की मौत का जिम्मेदार कौन? आज जांच के लिए पहुंचेगी केंद्र की एक्सपर्ट टीम

कोटा: नहीं थम रहा बच्चों की मौत का सिलसिला, 4 दिन में 11 नवजातों की मौत, 102 के पार पहुंचा आंकड़ा

कोटा: 48 घंटे में 10 बच्चों की मौत, सीएम गहलोत बोले- हर रोज 3-4 मौतें होती हैं, कोई नई बात नहीं

ऑक्सीजन पाइपलाइन नहीं होने के कारण इंफेक्‍शन फैलने और ठंड के चलते हुई 91 मासूमों की मौत

Related posts