इसलिए धनतेरस पर की जाती है भगवान धन्वंतरि की पूजा, जानिए उनके इस रूप की महिमा

dhanteras,dhanteras 2019, dhanteras par kyu ki jaati hai khariddari

चैतन्य भारत न्यूज

शुक्रवार, 25 अक्टूबर को धनतेरस है। इस तिथि से पांच दिवसीय दीपोत्सव शुरू हो जाएगा। धनतेरस पर सोना-चांदी, गहना-बर्तन आदि खरीद कर लक्ष्मी-गणेश, कुबेर का पूजन किया जाता है। धनतेरस पर लक्ष्मी-कुबेर के साथ ही यमराज और भगवान धन्वंतरि की भी पूजा करने की परंपरा है। क्या आप जानते हैं धनतेरस के दिन आखिर भगवान धन्वंतरि की पूजा क्यों की जाती है।

dhanteras,dhanteras 2019, dhanteras par kyu ki jaati hai khariddari

देवताओं के चिकित्सक हैं धन्वंतरि

पुराणों के मुताबिक, धनतेरस के दिन ही भगवान धन्वंतरि का जन्म हुआ था। धन्वंतरि भगवान को देवताओं का चिकित्सक माना गया है। स्कंद पुराण के मुताबिक, भगवान धन्वंतरि विष्णु के अवतार थे। जब समुद्र मंथन हुआ था तो भगवान धन्वंतरि के साथ शरद पूर्णिमा को चंद्रमा, कार्तिक द्वदशी के दिन कामधेनु गाय, त्रयोदशी के दिन धन्वंतरि, चतुर्दशी के दिन मां काली और अमावस्या के दिन मां लक्ष्मी का जन्म हुआ था। इसलिए दिवाली के दो दिन पूर्व धनतेरस मनाया जाता है।

dhanteras,dhanteras 2019, dhanteras par kyu ki jaati hai khariddari

धनतेरस पर इन चीजों को खरीदना होता है शुभ 

धनतेरस पर सोना, चांदी, जमीन-जायदाद या वाहन खरीदना शुभ माना गया है। इसके अलावा आप अपनी घर की जरूरत का दूसरा सामान जैसे कि फ्रिज, वॉशिंग मशीन, मिक्‍सर-ग्राइंडर, डिनर सेट और फर्नीचर भी ले सकते हैं। मां लक्ष्‍मी को धनिया अति प्रिय है। धनतेरस के दिन धनिया के बीज जरूर खरीदने चाहिए। मान्‍यता है कि, जिस घर में धनिया के बीज रहते हैं वहां कभी धन की कमी नहीं रहती। दिवाली के बाद धनिया के इन बीजों को घर के आंगन में लगाना चाहिए।

ये भी पढ़े…

धनतेरस पर इन चीजों को खरीदना माना गया शुभ, मिलती है मां लक्ष्मी की विशेष कृपा

धनतेरस पर इन 5 चीजों का दान माना गया महादान, मिलती है मां लक्ष्मी की विशेष कृपा

ये हैं धनतेरस से भाई दूज तक की महत्वपूर्ण तिथि, शुभ फल प्राप्ति के लिए इस मुहूर्त में करें पूजा

Related posts