तो इसलिए भगवान गणेश को लेना पड़ा ‘धूम्रवर्ण’ अवतार, जानें इसका रहस्य

ganesh chaturthi 2019,bhagwan ganesh,dhumravarna ganesh,bhagwaan ganesh ke dhumravarna avatar ki kahnai,bhagwan ganesh ka dhumravarna avtar,bhagwaan ganesh ke roop

चैतन्य भारत न्यूज

22 अगस्त से गणेश उत्सव की शुरुआत हो गई है। आज गणेश विसर्जन का दिन है। बता दें भगवान गणेश के कुल 8 स्वरुप हैं। इनमें से आठवां स्वरुप ‘धूम्रवर्ण’ है। यह अवतार अभिमानासुर का वध करने वाला है। लेकिन भगवान गणेश को क्यों धूम्रवर्ण कहा जाता है? आइए जानते हैं इसके पीछे की कहानी-

ganesh chaturthi 2019,bhagwan ganesh,dhumravarna ganesh,bhagwaan ganesh ke dhumravarna avatar ki kahnai,bhagwan ganesh ka dhumravarna avtar,bhagwaan ganesh ke roop

धूम्रवर्ण क्यों बने गणेश?

पुराणों में बताया गया कि एक बार श्री ब्रह्मा जी ने सूर्य देव को कर्म अध्यक्ष का पद दिया। सूर्यदेव पद के प्राप्त होते ही अहम भाव में आ गए। एक बार सूर्य देव को छींक आ गई उससे एक विशाल बलशाली दैत्य अहंतासुर प्रकट हुआ। दैत्य होने के कारण वह शुक्राचार्य का शिष्य बना  दैत्यगुरु ने अहंतासुर को श्री गणेश के मंत्र की दीक्षा दी। अहंतासुर ने वन में जाकर श्री गणेश की भक्ति भाव से पूर्ण निष्ठा से कठोर तपस्या करने लगा। उसी कठिन तपस्या के बाद भगवान श्री गणेश प्रकट हुए और अहंतासुर से वर मांगने को कहा।

ganesh chaturthi 2019,bhagwan ganesh,dhumravarna ganesh,bhagwaan ganesh ke dhumravarna avatar ki kahnai,bhagwan ganesh ka dhumravarna avtar,bhagwaan ganesh ke roop

अहंतासुर ने श्री गणेश के सामने ब्रह्माण्ड के राज्य के साथ-साथ सदेव अमरता और अजेय होने का वरदान मांगा। श्री गणेश वरदान देकर अंतर्ध्यान हो गए। कुछ समय बाद अहंतासुर ने एक बार विश्वविजय की योजना बनाई। पृथ्वी अहंतासुर के अधीन हो गई। अहंतासुर ने स्वर्ग पर भी आक्रमण कर दिया। देवता भी उसके समक्ष ज्यादा न टिक पाए। समस्त देवी देवता विस्थापित होकर दर-दर भटकने लगे। अहंतासुर के भय से मुक्ति पाने के लिए देवताओं ने श्री गणेश की उपासना की। कठोर तपस्या के बाद गणेश प्रकट हुए।

ganesh chaturthi 2019,bhagwan ganesh,dhumravarna ganesh,bhagwaan ganesh ke dhumravarna avatar ki kahnai,bhagwan ganesh ka dhumravarna avtar,bhagwaan ganesh ke roop

सभी देवी देवताओं ने श्री गणेश को समस्त व्यथा सुनाई तब श्री गणेश ने सभी को उनके कष्टों को दूर करने का वचन दिया। इस बीच गणेश ने देवर्षि नारद के माध्यम से अहंतासुर के पास समाचार भेजा कि वह श्री धूमवर्ण गणेश की शरण में आ जाए नही तो उसकी म्रत्यु निश्चित है। लेकिन अहंतासुर नही माना। नारद से समस्त कहानी सुनकर श्री धूम्रवर्ण गणेश क्रोधित हो गए और अपना पाश असुर सेना पर छोड़ दिया। श्री धूम्रवर्ण की अपर शक्तियां देखकर अहंतासुर तुरंत धूम्रवर्ण शरण में जाकर क्षमा याचना करने लगा। दयालु श्री धूम्रवर्ण श्री गणेश प्रसन्न हो गए और अहंतासुर को क्षमा कर दिया। इसके बाद से भगवान गणेश के आठवें अवतार श्री धूम्रवर्ण की जय जयकार होने लगी।

ये भी पढ़े…

भगवान गणेश क्यों कहलाएं लंबोदर जानिए इस अवतार की महिमा

इस देश में भभकते ज्वालामुखी पर पिछले 700 साल से विराजमान हैं भगवान गणेश

आखिर क्यों भगवान गणेश को लेना पड़ा था विघ्नराज अवतार? जानिए इसकी महिमा

Related posts