1.5 रुपए की इस दवा से ठीक हो गए कोरोना के मरीज, डॉक्टरों की बढ़ी उम्मीद

metformin

चैतन्य भारत न्यूज

कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए दुनियाभर के वैज्ञानिक इसकी दवा और वैक्सीन बनाने में जुटे हैं। लेकिन अब तक कोई भी इसमें सफल नहीं हो सका है। ऐसे में पुरानी दवाओं की मदद से ही फिलहाल कोरोना संक्रमित मरीजों को ठीक किया जा रहा है। इसी क्रम में वैज्ञानिकों को सफलता मिली है।

दवा की कीमत मात्र 1.5 रुपए

वैज्ञानिकों ने एक बेहद सस्ती दवा का इस्तेमाल कोरोना के मरीजों पर किया और इससे मरीज ठीक भी हो गए। इस दवाई की एक गोली की कीमत मात्र 1.5 रुपए है। कोरोना मरीजों को ठीक करने वाली इस दवा का नाम मेटफॉर्मिन है। आमतौर पर मेटफॉर्मिन दवा का इस्तेमाल डायबिटीज के रोगियों को ठीक करने के लिए किया जाता है। लेकिन अब यह दवाई कोरोना के मरीजों का इलाज करने में भी कारगर पाई गई है।

मेटफॉर्मिन दवा लेने वाले मरीजों की संख्या कम

शोध में यह सामने आया कि जो डायबिटीज के मरीज कोरोना संक्रमित थे और वे मेटफॉर्मिन दवा ले रहे थे, उनकी मौत की दर अन्य डायबिटीज के मरीजों की तुलना में बेहद कम थी। यानी जहां यह दवाई न लेने वाले 22 लोगों की मौत हुई तो दवाई लेने वाले सिर्फ तीन मरीजों की।

इन बीमारियों में भी कारगर सिद्ध हुई यह दवा

अमेरिका के मिन्नेसोटा यूनिवर्सिटी ने करीब छह हजार मरीजों पर इस दवाई का परीक्षण किया है। यहां के भी शोधकर्ताओं का कहना है कि मेटफॉर्मिन कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की मौत के खतरे को कम कर सकता है। न सिर्फ डायबिटीज और कोरोना बल्कि मेटफॉर्मिन दवा ब्रेस्ट कैंसर और दिल की बीमारियों में भी कारगर सिद्ध हुई है।

Related posts