इस बाबा ने किया था दावा- ‘दिग्विजय सिंह हारे तो मैं समाधि ले लूंगा…’ चुनावी नतीजे आते ही हो गए गायब

baba vairagya ji maharaj,digvijay singh,bhopal.madhyapradesh

चैतन्य भारत न्यूज

मध्यप्रदेश की हाई-प्रोफाइल सीट भोपाल से कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह को साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर से करारी हार मिली। उनकी हार के बाद से ही महामंडलेश्वर स्वामी वैराग्यानंद महाराज को बड़ी तेजी से ढूंढा जा रहा है। ये वहीं बाबा हैं जिन्होंने कुछ दिनों पहले ही दिग्विजय सिंह की जीत के लिए 5 क्विंटल मिर्ची से यज्ञ किया था। साथ ही उन्होंने ये दावा भी किया था कि इस चुनाव में दिग्विजय सिंह की ही जीत होगी। यदि ऐसा नहीं हुआ तो वो हवन कुंड में ही समाधि ले लेंगे।

चुनावी नतीजे सामने आने के बाद से ही लोगों ने बाबा की तलाश करना शुरू कर दी। सोशल मीडिया पर भी बाबा को ढूंढने की मुहीम जारी है। कुछ लोगों का कहना है कि, डर के मारे बाबा अंडरग्राउंड हो गए हैं। सूत्रों के मुताबिक, बाबा का फोन भी बंद आ रहा है। 29 मई को ये बाबा मीडिया के सामने प्रकट हुए थे और कहा था कि, ”मैने संकल्प लिया है, भारत के संन्यासी का संकल्प कभी निष्फल नहीं होता है। मेरा संकल्प है कि दिग्विजय के लिए दिग्विजय यज्ञ करने जा रहा हूं। साढ़े 5 क्विंटल का मिर्ची यज्ञ। मेरा प्रण है कि अगर दिग्विजय को सफलता हासिल नहीं होती है तो मैं उसी कुण्ड में उसी समय जिंदा समाधि ले लूंगा। और मुझे संशय इसलिए नहीं है क्योंकि मुझे पता है कि यज्ञ सफल होगा।” अब सभी लोग बाबा की तलाश में है लेकिन बाबा के कोई अते-पते ही नहीं हैं।

न सिर्फ मिर्ची बाबा बल्कि दिग्विजय सिंह के लिए भाजपा से राज्यमंत्री रह चुके कम्प्यूटर बाबा ने भी हवन-यज्ञ किया था। दिग्विजय की जीत के लिए कम्प्यूटर बाबा ने करीब 7 हजार साधू-संतों के साथ हवन कर जीत की कामना की थी। इस यज्ञ के बाद बाबा और दिग्विजय सिंह पर चुनाव आयोग की ओर से झटका मिला था। दरअसल, बाबा ने यज्ञ और प्रचार में खर्च हुई धनराशि का हिसाब आयोग को नहीं दिया था। ऐसे में आयोग ने यज्ञ और साधु-संतों द्वारा किए गए प्रचार-प्रसार का पूरा खर्च भी दिग्विजय सिंह के ही खाते में जोड़ दिया था।

Related posts