इसलिए मनाई जाती है छोटी दिवाली, जानिए इस दिन दीपक जलाने का महत्व

choti diwali 2019,choti diwali,choti diwali ka mahatav

चैतन्य भारत न्यूज

दिवाली के एक दिन पहले छोटी दिवाली मनाई जाती है जिसे नरक चतुर्दशी भी कहा जाता है। इस दिन घरों में यमराज की पूजा की जाती है। छोटी दिवाली पर शाम के वक्त घर में दीपक लेकर घूमने के बाद उसे बाहर कहीं रख दिया जाता है। इस दिन कुल 12 दीपक जलाए जाते हैं। मान्यता है कि यमराज के लिए तेल का दीपक जलाने से अकाल मृत्यु भी टल जाती है।



choti diwali 2019,choti diwali,choti diwali ka mahatav

छोटी दिवाली के दिन श्रीकृष्ण की उपासना भी की जाती है क्योंकि इसी दिन उन्होंने नरकासुर का वध किया था। इसलिए इसे नरक चतुर्दशी कहा जाता है। खास बात यह है कि आज के दिन हनुमान जी का भी जन्म हुआ था। इस दिन सूरज निकलने से पहले नहाना काफी शुभ माना गया।

इस दिन स्नान करना क्यों है शुभ?

  • छोटी दिवाली या नरक चतुर्दशी प्रातःकाल या सायंकाल चंद्रमा की रौशनी में जल से स्नान करना चाहिए।
  • इस दिन उबटन लगाकर स्नान करना चाहिए।
  • मान्यता है कि ऐसा करने से न केवल अद्भुत सौन्दर्य और रूप की प्राप्ति होती है, बल्कि स्वास्थ्य की तमाम समस्याएं भी दूर होती हैं।
  • छोटी दिवाली का दिन स्नान करने के बाद दीपदान भी अवश्य करना चाहिए।

choti diwali 2019,choti diwali,choti diwali ka mahatav

छोटी दिवाली पर दीपक का महत्व

  • इस दिन आयु और अच्छे स्वास्थ्य के लिए दीपक जलाने की मान्यता है।
  • ऐसा करना यमदेवता के लिए दीपदान कहते हैं।
  • मान्यता है कि दीपक का मुख दक्षिण दिशा ओर होना चाहिए।
  • इस दिन मां अन्नपूर्णा की पूजा का भी विधान है।

ये भी पढ़े….

आखिर क्‍यों मनाई जाती है नरक चतुर्दशी? जानिए इसकी पौराणिक कथा

आज है नरक चतुर्दशी, जानिए इसका महत्व और पूजा-विधि

इस बार दिवाली पर बन रहा है शुभ संयोग, जानिए मां लक्ष्मी की पूजा का मुहूर्त

Related posts