किसी बंकर से कम नहीं डोनाल्ड ट्रंप की कार ‘द बीस्ट’, बम, गोली, बारूद इसके आगे सब हैं फेल

the beast

चैतन्य भारत न्यूज

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप 24 और 25 फरवरी को दो दिवसीय भारत दौरे पर आ रहे हैं। उनके साथ पत्नी मिलेनिया ट्रंप, बेटी इवांका ट्रंप और दामाद जारेड कुशनेर भी भारत आ रहे हैं। उनके साथ 12 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल भी भारत आएगा। ट्रंप अपने परिवार के साथ 24 फरवरी को अहमदाबाद पहुंचेंगे। इसी दिन शाम को वह ताजमहल देखने आगरा जाएंगे। इसके बाद 25 फरवरी को दिल्ली का दौरा करेंगे। ट्रंप की सुरक्षा को लेकर खासतौर से तैयारियां की गई हैं।



ट्रंप की सुरक्षा बेहद कड़ी होती है। उनकी कार ‘द बीस्ट’, सुरक्षा कमांडो ‘नेवी सील’ और सुरक्षा एजेंसी- ‘सीआईए’, ये तीनों मिलकर एक ऐसा सुरक्षा घेरा बनाते हैं जिससे पार पाना नामुमकिन होता है। अमेरिकी राष्ट्रपति जिस कार में चलते हैं वह किसी बनकर से कम नहीं होती है। ‘द बीस्ट’ कार तमाम सुविधाओं और हथियारों से लैस है। जहां से भी यह कार गुजरती है, लोग देखते ही रह जाते हैं। न सिर्फ ट्रंप की गाड़ी बल्कि इसके अलावा वो 14 गाड़ियां भी बेहद खास हैं जो ट्रंप के काफिले में चलती हैं। ट्रंप दो दिवसीय भारत दौरा भी इसी विशेष सुरक्षा इंतजामों के साथ करेंगे।

24 फरवरी को दोपहर 12 बजे ट्रंप पत्नी मेलिना के साथ एयरफोर्स वन से अहमदाबाद एयरपोर्ट पर उतरेंगे। उनका सुरक्षा कवच बीस्ट वहीं पार्क रहेगी। फिर ट्रंप आसमानी सुरक्षा कवच से लेकर जमीनी कवच के घेरे में रहेंगे। काफिले के बीच में ट्रंप द बीस्ट में सवार रहेंगे। द बीस्ट कार 18 फीट लंबी, साढ़े साच टन भारी है। यह 60 मील प्रति घंटा की रफ्तार से दौड़ती है जो पूरी तरह से बुलेट प्रूफ है। ट्रंप की इस कार में कई ऐसे सिस्टम लगे हैं, जिनकी वजह से ये कार किसी बड़े आतंकी हमले के वक्त भी अमेरिकी राष्ट्रपति को बचाने में सक्षम है।

  • इस कार में ड्राइवर समेत 7 लोग बैठ सकते हैं।
  • कार के दरवाजे 8 इंच मोटे बुलेट प्रूफ हैं। इस कारण कार पर बम का भी असर नहीं होता है।
  • इसका ड्राइवर CIA का ट्रेंड सीक्रेट एजेंट होता है।
  • कार में जीपीसी ट्रैकिंग डिवाइस और पंक्चर न होने वाले स्टील रिम टायर इसे ज्यादा ताकतवर बना देते हैं।
  • नाइट विजन कैमरा, टियर गैस मशीन जैसी चीजें भी बीस्ट का हिस्सा होती हैं।
  • कार की बॉडी को स्टील, एल्युमीनियम, टाइटेनियम और सिरेमिक से बनाया गया है। इस पर आम रॉकेट लॉन्चर का भी असर नहीं होता है।
  • कार का चेसिस पांच इंच मोटी मजबूत स्टील से बना है। यह बारूदी सुरंग फटने से भी महफूज रहता है।
  • इसके टायर की ही बात करें तो वो कुछ ऐसे बने हैं, जिनपर गोली असर नहीं करती। यदि टायर पंक्चर भी हो जाए तो भी इसके रिम इतने ताकतवर हैं कि वो कार को तेज रफ्तार से भगा सकते हैं।
  • कार के शीशे पर गोलियां लगने पर भी वह टूटता नहीं हैं।
  • बीस्ट कार का बुलेट प्रूफ पेट्रोल टैंक भी बेहद सुरक्षित हैं। इसे एक फोम से सील किया जाता है। जिसमें आग लगने की सूरत में धमाका नहीं होता।
  • इस कार में बैठे-बैठे ट्रंप वाई-फाई, सैटेलाइट और डायरेक्ट लाइन फोन से 24 घंटे, उप राष्ट्रपति और अमेरिका रक्षा मंत्रालय पेंटागन के संपर्क में रहते हैं।
  • यदि कभी किसी आतंकी हमले में राष्ट्रपति घायल हो जाते हैं तो कार में उसके लिए भी सभी इंतजाम किए गए हैं। इसमें राष्ट्रपति के ब्लड ग्रुप वाला खून रहता है।साथ ही कार के पिछले हिस्से में ऑक्सीजन सप्लाई करने का भी इंतजाम रहता है।
  • इन सब खासियत की वजह से ही बीस्ट को दुनिया की सबसे सुरक्षित कार कहा जाता है।

ऐसा होता है काफिला

ट्रंप की कार की तरह ही उनका काफिला भी बेहद खास है। काफिले में सबसे आगे मोटर बाइक सवार होते हैं। ये भी आधुनिक उपकरणों से लैस होते हैं। आगे का रास्ता साफ करने की जिम्मेदारी इनके ही पास होती है। फिर पुलिस की बीएमडब्ल्यू होती है। फिर अमेरिकी एसयूवी और उसके पीछे दो लिमोजिन कारें चल रही होती हैं।

ये भी पढ़े…

भारत आने से पहले ट्रंप ने दिखाया अपना बाहुबली अवतार, कहा- अपने दोस्तों से मिलने के लिए उत्साहित हूं

डोनाल्ड ट्रंप के ताजमहल दौरे को लेकर खास तैयारियां, 389 साल में पहली बार हो रही शाहजहां-मुमताज की कब्र की मड पैक थेरेपी

डोनाल्ड ट्रंप से पहले ये 6 अमरीकी राष्ट्रपति आ चुके हैं भारत के दौरे पर

 

Related posts