कोरोना वायरस से अमेरिका में तबाही, ट्रंप ने पीएम मोदी से की इस खास दवा की मांग, बोले- मैं खुद भी खाऊंगा

donald trump modi

चैतन्य भारत न्यूज

वॉशिंगटन. कोरोना वायरस ने दुनियाभर में तबाही मचा रखी है। अब तक इस वायरस की चपेट में आकर दुनियाभर में करीब 63 हजार लोगों की मौत हो चुकी है और 11 लाख से ज्यादा लोग इसके संक्रमण का शिकार हो चुके हैं। अमेरिका में भी कोरोना वायरस का कहर जारी है। पिछले 24 घंटे में दुनिया के सबसे ताकतवर देश में 1480 लोगों ने अपनी जान गंवाई है। अमेरिका में मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। ऐसे में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लिए इसे रोकना बड़ी चुनौती है।

मोदी-ट्रंप ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर की बात

जानकारी के मुताबिक, हाल ही में राष्ट्रपति ट्रंप ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। इस दौरान ट्रंप ने पीएम मोदी से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन टेबलेट्स सप्लाई करने की गुजारिश की है। साथ ही अमेरिकी राष्ट्रपति ने यह भी कहा कि, ‘मैं भी इसे (दवा को) ले सकता हूं, मुझे डॉक्टरों से इस बारे में बात करनी होगी।’

भारत ने दवा के निर्यात पर लगाई रोक

बता दें हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन (Hydroxychloroquine) मलेरिया की दवा है जो इस समय कोरोना वायरस से लड़ने में मदद कर रही है। इस दवा के निर्यात पर भारत सरकार ने रोक लगा दी है। सरकार का कहना है कि, दवा की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए तत्काल प्रभाव से इस पर रोक लगाना जरूरी है। ऐसे में अमेरिका समेत अन्य देशों में इस टेबलेट की मांग बढ़ गई है।

क्या है हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन?

यह एंटी मलेरिया ड्रग क्लोरोक्वीन से अलग दवा है। इस टेबलेट का उपयोग ऑटोइम्यून रोगों जैसे कि संधिशोथ (Arthritis) के इलाज में किया जाता है। लेकिन इस समय इसे कोरोना वायरस के इलाज में भी इस्तेमाल किए जाने की बात सामने आई है। जानकारी के मुताबिक, इस दवा का खास असर SARS-CoV-2 पर पड़ता है। यह वही वायरस है जो कोविड-19 के कारण बनता है।

आर्टिकल में था दवा का जिक्र

बता दें 19 मार्च को द लैंसेट ग्लोबल हेल्थ में लिखे गए एक आर्टिकल में इस दवा के कई फायदों के बारे में और इसकी बीमारियों से लड़ने की क्षमता के बारे में बताया गया था। पूरे आर्टिकल में इस बात पर जोर दीया गया था कि यह दवा जानलेवा कोरोना वायरस के सामने एंटी-वायरल तरीके से काम करेगी।

Related posts