कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में योद्धा की भूमिका निभा रहे हैं ड्रोन, संक्रमण का खतरा किया कम

croronavirus drone

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए देशभर में 3 मई तक लॉकडाउन लागू है। इस दौरान ड्रोन कानून प्रवर्तन अधिकारियों और अन्य सरकारी एजेंसियों के कामकाज में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा हैं। ड्रोन न सिर्फ निगरानी कर रहे हैं बल्कि ये सैनिटाइजेशन और लोगों तक दवा पहुंचाने आदि काम भी कर रहे हैं।

ड्रोन से कोरोना का संक्रमण घटा

इस मुसीबत की घड़ी में मानवरहित छोटे विमानों (Drone) ने न सिर्फ काम आसान कर दिया है कोरोना संक्रमण का खतरा भी कम कर दिया है। गुजरात पुलिस लोगों की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए पूरे राज्य में 200 ड्रोन का इस्तेमाल कर रही है। जबकि दिल्ली पुलिस ने एशिया के सबसे बड़े फल और सब्जी थोक बाजार आजादपुर मंडी में सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने के लिए ड्रोन की तैनाती की है। मदुरै में ड्रोन का इस्तेमाल अस्पताल के उस इलाके के सैनिटाइजेशन में किया जा रहा है, जहां कोरोना के मरीज रखे गए हैं।

मीडिया भी कर रही ड्रोन का इस्तेमाल

न सिर्फ सरकारी एजेंसियां बल्कि मीडिया भी लॉकडाउन की तस्वीरें लेने के लिए ड्रोन की मदद ले रही है। ड्रोन फेडरेशन ऑफ इंडिया (DFI) के निदेशक-भागीदारी स्मित शाह ने पीटीआई भाषा से कहा कि अनुमान है कि, सरकार के साथ पंजीकृत 20,000 ड्रोनों में से लगभग 450-500 ड्रोन विभिन्न राज्यों और कानून प्रवर्तन एजेंसियों की सहायता के लिए इस्तेमाल में लाए जा रहे हैं। ड्रोन बनाने वाले स्टार्टअप सरकार को लाभरहित मदद के लिए आगे आए हैं। ज्यादातर ड्रोन सेवा प्रदाता सरकार से कोई शुल्क नहीं ले रहे हैं।

ये भी पढ़े…

कोरोना लॉकडाउन: 3 मई तक ये 12 काम नहीं कर सकेंगे आप, सरकार ने जारी किए दिशा-निर्देश

कोरोना लॉकडाउन : 20 अप्रैल से इन जरूरी कारोबार-उद्योगों में मिलेगी छूट, सरकार ने जारी किए निर्देश

कोरोना लॉकडाउन: अगर कर रहे हैं Work from home, तो इस तरह रखें अपनी आंखों का ख्याल

Related posts