दिल्ली चुनाव: चुनाव आयोग ने केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर और सांसद प्रवेश वर्मा के चुनाव प्रचार पर लगाई रोक

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. भड़काऊ बयान देने के मामले में चुनाव आयोग ने बीजेपी सांसद प्रवेश वर्मा और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर के खिलाफ सख्त कार्रवाई की है। चुनाव आयोग ने दोनों ही नेता को स्टार प्रचारक सूची से हटाने को कहा।



चुनाव आयोग ने प्रवेश वर्मा और अनुराग ठाकुर को दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी की स्टार कैंपेनर लिस्ट से तत्काल बाहर करने का आदेश जारी किया। चुनाव आयोग के निर्देशों के मुताबिक, अब अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा दिल्ली विधानसभा चुनाव में बीजेपी के लिए प्रचार नहीं कर सकेंगे। चुनाव आयोग ने दोनों नेताओं के खिलाफ भड़काऊ बयानबाजी करने के मामले में यह कार्रवाई की है।

अभी भी कर सकते हैं प्रचार

चुनाव आयोग के आदेश के बाद भी प्रवेश वर्मा और अनुराग ठाकुर चुनाव प्रचार कर सकते हैं। नियमों के मुताबिक, यदि प्रत्याशी इन दोनों नेताओं की रैली कराता है तो वह उसके चुनाव खर्च में जोड़ा जाएगा। लेकिन पहले इन दोनों नेताओं की रैली का खर्चा पार्टी के चुनाव खर्च में जोड़ा जाता था।

अनुराग ठाकुर ने लगवाए थे आपत्तिजनक नारे

बता दें केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को दिल्ली में चुनाव प्रचार के दौरान भीड़ से आपत्तिजनक नारे लगवाए थे। उन्होंने मंच से कहा था कि, ‘देश के गद्दारों को गोली मारो…’ इस पर भीड़ ने नारेबाजी को पूरा करते हुए आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया था।

आतंकी से की केजरीवाल की तुलना

वहीं सोमवार को ही पश्चिमी दिल्ली से बीजेपी के सांसद प्रवेश वर्मा ने अरविंद केजरीवाल की तुलना आतंकी और नक्सली से की थी। साथ ही उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में शाहीन बाग में जारी धरना-प्रदर्शन को लेकर भी विवादित बयान दिया था। उन्होंने मादीपुर में एक जनसभा के दौरान कहा था कि, ‘केजरीवाल जैसे नटवरलाल… केजरीवाल जैसे आतंकवादी देश में छुपे बैठे हैं। हमें तो सोचने पर मजबूर होना पड़ता है हम कश्मीर में पाकिस्तानी आतंकवादियों से लड़ें या फिर केजरीवाल जैसे आतंकवादियों से इस देश में लड़ें।’

कश्मीरी पंडितों का किया जिक्र

साथ ही उन्होंने कहा था कि, ‘कश्मीर में जो कश्मीरी पंडितों के साथ हुआ वो दिल्ली में भी हो सकता है। शाहीन बाग में लाखों लोग जुटते हैं, वो आपके घरों में घुस सकते हैं और आपकी बहन और बेटियों से बलात्कार (रेप) कर सकते हैं और उनकी हत्या कर सकते हैं। अब लोगों को निर्णय करना है।’

केजरीवाल ने प्रदर्शनकारियों का समर्थन किया

इतना ही नहीं बल्कि प्रवेश वर्मा ने यह भी कहा था कि, ‘इसकी जांच होनी चाहिए कि नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन के लिए कौन लोगों को भड़का रहा है जबकि सरकार ने बार-बार आश्वासन दिया है कि संशोधित कानून के कारण किसी की भी नागरिकता नहीं जाएगी।’ उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर आरोप लगाया था कि, ‘दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों का समर्थन किया और अब दिल्ली के लोगों को निर्णय करना है कि आठ फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव में वो किसे वोट देना चाहते हैं।’

ये भी पढ़े…

बीजेपी में शामिल हुईं साइना नेहवाल, दिल्ली चुनाव में करेंगी प्रचार, पीएम मोदी की तारीफों के बांधे पुल

दिल्ली चुनाव: केजरीवाल के खिलाफ मैदान में उतरे कांग्रेस और भाजपा के ये नेता

दिल्ली चुनाव: टिकट बंटवारे को लेकर बीजेपी कार्यकर्ताओं में नाराजगी, नड्डा के घर के बाहर किया हंगामा

Related posts