कोरोना वायरस के डर से दुनियाभर में बदला अभिवादन का तरीका, जानें अलग-अलग देशों की परंपराएं

चैतन्य भारत न्यूज

दुनियाभर में कोरोना वायरस का कहर जारी है। कोरोना वायरस के नए मामले सामने आने के बाद साफ-सफाई और सावधानी बरतने की अपील की जा रही है। कोरोना वायरस से बचने के लिए अब दुनियाभर में अभिवादन का तरीका भी बदल गया है। पहले जहां सबसे आम तरीका हाथ मिलाने का था अब इसे लोगों ने बंद कर दिया है। कोरोना वायरस के डर से लोग हाथ मिलाने में भी हिचक रहे हैं। आइए जानते हैं विश्व के अलग-अलग देशों में अभिवादन का तरीका-


बीजिंग

जब भी यहां दो लोग मिलते हैं तो एक व्यक्ति अपने दाहिने हाथ की मुट्ठी बंद करता है और दूसरे व्यक्ति के बाएं हाथ की हथेली को छूता है। लेकिन कोरोना वायरस के संक्रमण के डर से इस परंपरा पर रोक लगा दी गई है। यहां के लोगों को सिर्फ ‘हैलो’ करने की सलाह दी गई है।

अमेरिका

अमेरिका में लोग एक-दूसरे के गले मिलकर अभिवादन करते हैं लेकिन अब सिर्फ हाथ हिलाकर ही अभिवादन स्वीकार किया जा रहा है। इतना ही नहीं बल्कि नेशनल बॉस्केटबॉल एसोसिएशन से जुड़े खिलाड़ियों ने तो कोरोना वायरस के डर से पेन, बॉल और जर्सी पर ऑटोग्राफ देना भी बंद कर दिया है।

फ्रांस

फ्रांस में जब लोग एक-दूसरे से मिलते हैं तो गाल को चूमते हैं। लेकिन कोरोना के कहर से लोगों ने यह करना बंद कर दिया है। वहां के डॉक्टरों ने तो इतना तक कह दिया कि एक दूसरे की आंखों में देखना ही अभिवादन के लिए पर्याप्प्त है।

सिंगापुर

नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर स्कूल ऑफ मेडिसिन ने अपने देश के लोगों से अपील की है कि वे एक-दूसरे को हाथ हिलाते हुए ही अभिवादन करें, या फिर नमस्ते कर सकते हैं। यदि उन्होंने फुल स्लीव शर्ट पहनी है तो कोहनी भी मिला सकते हैं। बता दें यहां हाथ मिलाने या सीने पर हृदय की ओर हाथ रखने की परंपर है।

न्यूजीलैंड

इस देश की सरकार ने कोरोना से बचाव के लिए यहां के अभिवादन करने के तरीके ‘माओरी’ पर प्रतिबंध लगा दिया है। ‘माओरी’ परंपरा के तहत दो लोग एक-दूसरे की नाक दबाकर अभिवादन करते थे। साथ ही किसी कार्यक्रम में लोग माओरी गीत गाकर एक दूसरे के प्रति अपना सम्मान दिखा रहे हैं।

ऑस्ट्रेलिया

ऑस्ट्रेलिया के स्वास्थ्य मंत्री ने अपने देश की जनता से अपील की है कि लोग अभिवादन के लिए एक-दूसरे की पीठ पर थपकी दें, हाथ न मिलाएं। संभव हो सके तो पीठ पर थपकी देने से भी बचे।

स्पेन

इस देश की सबसे चर्चित परंपरा वर्जिन मैरी की प्रतिमा को चूमना है लेकिन अब लोगों ने कोरोना वायरस के डर से इसे बंद कर दिया है। नेशनल हेल्थ का कहना है कि वायरस से खुद और दूसरों को बचाना है तो सभी को अपनी भागीदारी निभानी होगी।

सऊदी अरब

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और कतर ने कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देख अपने नागरिकों को नाक से नाक मिलाकर एक दूसरे का अभिवादन न करने की सलाह दी है। सरकार ने हाथ हिलाकर और मुस्कुराकर ही एक दूसरे का अभिवादन करने की अपील की है।

ईरान

हाथ मिलाने से कोरोना वायरस के फैलने का डर ज्यादा रहता है इसलिए यहां के लोग एक दूसरे का अभिवादन पैरों को आपस में छूकर स्वीकार कर रहे हैं।

रोमानिया

यहां एक दूसरे के चेहरे को चूमने की परंपरा थी लेकिन सरकार की अपील के बाद लोग एक-दूसरे को सम्मान देने के लिए फूल भेंट कर रहे हैं।

ये भी पढ़े…

कोरोना वायरस से भी बड़ी महामारी है वायु प्रदूषण, 4 साल तक उम्र हो रही कम, हर साल 88 लाख मौत

Coronavirus: सरकार ने बताया कोरोना वायरस से कैसे बचें? जानें क्या करें और क्या ना करें

इटली से भारत आए 15 सैलानी कोरोना वायरस से पीड़ित, पीएम मोदी होली मिलन कार्यक्रम में नहीं होंगे शामिल

Related posts