PPF से जुड़े इन 6 नियमों में हुआ बदलाव, जानें आपको क्या होगा फायदा?

ppf

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. कर्मचारी भविष्य निधि (EPFO) बचत का ऐसा विकल्प है जिसमें कर्मचारी (Employee) और कंपनी (Company) दोनों के जरिए सैलरी का 12.5 फीसदी योगदान किया जाता है। पब्लिक प्रोविडेंट फंड यानी PPF ऐसी स्कीम बन गई है जिसमें बिना किसी रिस्क के रिटर्न मिलता ही है। सरकार ने अब PPF से जुड़े कुछ नियमों में बदलाव किया है। आइए नए नियमों के बारे में जानते हैं।



  • नए नियम के मुताबिक, अब से PPF अकाउंट होल्डर एक साल के अंदर कई बार पैसा जमा कर सकते हैं। बता दें इसके पहले 1 वित्तीय वर्ष में सिर्फ 12 बार ही पैसे जमा किए जा सकते थे। हालांकि 1 साल के भीतर कुल 1.5 लाख रुपए ही जमा हो सकते हैं।
  • PPF अकाउंट होल्डर को लोन पर मिलने वाला ब्याज 1 फीसदी कम हो गया है। पहले लोन की रकम पर लगने वाली ब्याज दर PPF अकाउंट पर मिलने वाली ब्याज से 2 फीसदी अधिक होती थी जो अब 1 फीसदी रह गई है।
  • यदि किसी अकाउंट होल्डर की मौत हो जाती है तो लोन पर लगने वाले ब्याज का भुगतान उसके नॉमिनी को करना होगा।
  • अब से PPF अकाउंट होल्डर किसी भी नॉन-होम पोस्ट ऑफिस ब्रांच के जरिए कितनी भी रकम जमा कर सकते हैं। डाक विभाग ने इसकी अनुमति दे दी है। बता दें पहले इसकी सीमा 25 हजार रुपए तक की ही थी।
  • यदि कोई PPF अकाउंट होल्डर दूसरे देश की नागरिकता ग्रहण कर लेता है, तो उस स्थिति में खाता मैच्योर होने से पहले बंद किया जा सकता है। यह नियम पहले नहीं था।
  • नए नियम लागू होने के बाद अब PF से आप अपने पैसे ऑफलाइन नहीं निकाल सकते हैं। यानी अगर आपका आधार UAN से लिंक है तो आपको पीएफ निकालने के लिए ऑनलाइन क्लेम करना होगा।

ये नए नियम 1 जनवरी 2020 से लागू होने वाले हैं। इसके लिए केंद्र सरकार के श्रम मंत्रालय ने एक नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया है। EPFO ने कर्मचारियों की सोशल सिक्योरिटी को देखते हुए यह कदम उठाया है। खास बात यह है कि जम्मू-कश्मीर में कर्मचारियों के लिए होगा, जिनका अभी तक पीएफ नहीं कटता है।

ये भी पढ़े…

सरकार करने वाली EPFO के नियमों में बड़ा बदलाव, PF योगदान घटाकर सैलरी बढ़ाने का मिलेगा विकल्प

अगर PF अकाउंट का पैसा रखना है सुरक्षित, तो आज ही करें अपने अकाउंट को आधार से लिंक, जानें तरीका

बदलने जा रहे हैं PF के पेंशन नियम, 6 करोड़ लोगों पर होगा असर

Related posts