बाहर से बंद था ट्रक, अंदर था -25 डिग्री तापमान, फ्रीज होकर मर गए 39 लोग, मिले खून से सने हाथों के निशान

london

चैतन्य भारत न्यूज

लंदन. 23 अक्टूबर को दक्षिण-पूर्व इंग्लैंड में उस समय हड़कंप मच गया था जब लंदन के समीप एक ट्रक के कंटेनर से 39 शव मिले थे। इस खबर के फैलने के बाद दुनियाभर में हड़कंप मच गया था और सभी का यही सवाल था कि आखिर एक साथ इतने लोगों की मौत हुई कैसे? हाल ही में यह पता चला है कि जिस ट्रक में सभी लोग सवार थे वो बाहर से बंद था और अंदर का तापमान माइनस 25 डिग्री था। ऐसे में लोगों को सांस लेने में तकलीफ होने लगी और सभी लोग बेहद ठंड में छटपटाते हुए मारे गए।



जानकारी के मुताबिक, इन लोगों के लंदन आने की कोशिश के पीछे स्मगलरों को जिम्मेदार माना जा रहा है। ट्रक के अंदर खून से सने हाथों के छापे मिले हैं। माना जा रहा है कि सभी लोग आखिरी वक्त में दरवाजे को पीटकर मदद की गुहार लगा रहे थे। बता दें इस मामले में ट्रक के ड्राइवर सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है और मामले की जांच की जा रही है।

बताया जा रहा है कि यह ट्रक 19 अक्टूबर को संभवतः बुल्गारिया से आया था और वाटरग्लेड इंडस्ट्रियल पार्क में मौजूद था। मरने वालों में 38 वयस्क और एक किशोर शामिल है। अब तक की जांच में मृत लोगों की पहचान सामने नहीं आई है। ब्रिटिश अधिकारियों का कहना है कि मृतकों की पहचान करने में समय लग सकता है।

गौरतलब है कि इससे पहले साल 2014 में भी करीब 34 अफगान सिख एक शिपिंग कंटेनर में डिहाइड्रेशन, हाइपोथर्मिया और ऑक्सीजन की कमी के कारण बेहोश मिले थे। उनमें से एक की मौत हो गई थी। वहीं साल 2000, जून में भी डोवर शहर में करीब 58 चीनी प्रवासी एक लॉरी में मृत मिले थे। उन सभी की मौत भी दम घुटने से हुई थी। उनमें से दो लोगों को समय रहते बचा लिया गया था।

यह भी पढ़े… 

लंदन : कंटेनर में 39 शव मिलने से मचा हड़कंप, ड्राइवर गिरफ्तार

मप्र : ग्रामीणों ने 17 गायों को 20 दिन तक कमरे में रखा बंद, भूख-प्यास से तड़पकर हुई मौत

वक्त पर एम्बुलेंस नहीं मिलने से इस एक्‍ट्रेस और उसके बच्‍चे की हुई मौत

सऊदी अरब में बड़ा हादसा, बस-ट्रक की टक्कर में 35 विदेशी नागरिकों की मौत

Related posts