Fair & Lovely क्रीम के नाम से अब हटाया जाएगा ‘फेयर’, कंपनी रखेगी नया नाम

चैतन्य भारत न्यूज

कुछ दिनों पहले ही जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी ने अपने ऐसे उत्पादों को बेचना बंद करने का फैसला किया, जिनके विज्ञापन में काले धब्बे कम करने का दावा किया जाता है। अब तेल, साबुन, सर्फ जैसे रोजमर्रा की जरूरत का सामान बनाने वाली कंपनी हिंदुस्तान यूनिलीवर ने भी अपने प्रोडक्ट फेयर एंड लवली (fair & lovely) से फेयर शब्द हटाने की घोषणा कर दी है।


जानकारी के मुताबिक, कंपनी ने नए नाम के लिए आवेदन भी कर दिया है, लेकिन अभी उसे स्वीकृति नहीं मिल सकी है। गुरुवार को हिंदुस्तान यूनिलीवर ने कहा कि, ‘वह त्वचा की देखभाल से जुड़े अपने लोकप्रिय उत्पाद ‘फेयर एंड लवली’ से ‘फेयर’ शब्द हटाएगी। त्वचा देखभाल से जुड़े उसके दूसरे उत्पादों के मामले में भी नए नजरिए से काम किया जाएगा। इसमें हर रंग-रूप का ख्याल रखा जाएगा। इसके अलावा, विज्ञापनों और प्रचार सामग्री में हर रंग की महिलाओं को जगह दी जाएगी।’ कंपनी के इस फैसले के बाद यह माना जा रहा है कि रंगभेद खत्म करने की मुहिम के तहत उन्होंने यह फैसला लिया है।

बता दें यूनिलीवर कंपनी सिर्फ फेयर ऐंड लवली ब्रैंड से ही भारत में सालाना 50 करोड़ डॉलर से ज्यादा का कारोबार करती है। दुनिया भर में अश्वेतों के प्रति भेदभाव रोकने की मुहिम के बीच गोरे रंग को बढ़ावा देने वाली क्रीम को लेकर भी सवाल उठ रहे थे। भारत के अलावा, यह क्रीम बांग्लादेश, इंडोनेशिया, थाईलैंड, पाकिस्तान और एशिया के कई देशों में बिकती है।

गौरतलब है कि अमेरिका में एक अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद से ही पूरी दुनिया में नस्लीय मानसिकता को लेकर आंदोलन छिड़ गई है। कई जगहों पर ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ जैसे मूवमेंट चलाए जा रहे हैं। इस दौरान ही फेयर एंड लवली का नाम बदलने का फैसला लिया गया है।

 

Related posts