किसानों का आंदोलन जारी, कहा- हम 6 महीने का राशन साथ लेकर आए हैं

चैतन्य भारत न्यूज

नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों का धरना जारी है। किसानों ने आज रात सिंधु बॉर्डर पर गुजारी है। आज किसानों की मीटिंग होने वाली है। इस मीटिंग में तय किया जाएगा कि किसान दिल्ली की ओर कूच करेंगे या वहीं पर प्रदर्शन जारी रखेंगे। बता दें कि किसानों को दिल्ली के बुराड़ी मैदान में प्रदर्शन की इजाजत मिल गई है, लेकिन किसान अभी भी सिंधू बॉर्डर पर ही डटे हैं।

बता दें नए कृषि बिल के विरोध में पंजाब और हरियाणा के किसान पिछले दो महीनों से सड़कों पर हैं। प्रदर्शनकारियों ने दो दिन पहले बैरिकेडिंग तोड़ दी और पथराव भी किया। इसके बाद पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पानी की बौछार की और आंसू गैस के गोले दागे। पंजाब से आए एक किसान ने कहा कि हमारा विरोध तब तक जारी रहेगा जब तक कि कृषि कानूनों को वापस नहीं लिया जाता है। हम यहां लंबी लड़ाई के लिए जुटे हैं। एक अन्य किसान ने कहा कि हम पीछे हटने वाले नहीं हैं। हम छह महीने का राशल लेकर आए हैं। हमारा आंदोलन जारी रहेगा।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी किसानों के मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेरा। प्रियंका गांधी ने कहा कि, भाजपा सरकार में देश की व्यवस्था को देखिए। जब भाजपा के खरबपति मित्र दिल्ली आते हैं तो उनके लिए लाल कालीन डाली जाती है। मगर किसानों के लिए दिल्ली आने के रास्ते खोदे जा रहे हैं। दिल्ली किसानों के खिलाफ कानून बनाए वह ठीक, मगर सरकार को अपनी बात सुनाने किसान दिल्ली आए तो वह गलत?

कांग्रेस के पूर्व राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर निशाना साधा। राहुल ने ट्वीट किया, बड़ी ही दुखद फ़ोटो है। हमारा नारा तो ‘जय जवान जय किसान’ का था, लेकिन आज PM मोदी के अहंकार ने जवान को किसान के खिलाफ खड़ा कर दिया।

ये भी पढ़े…

क्या हैं वो तीन कानून, जिसके विरोध में दिल्ली पहुंच रहे 1 लाख किसान? यहां सरल भाषा में जानें सब कुछ

कृषि बिल विरोध: पीएम मोदी ने कहा- बिचौलियों का साथ दे रहे हैं कुछ लोग, इनसे किसानों को सतर्क रहना है

केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर का इस्तीफा, किसानों से जुड़े इस अध्यादेश के विरोध में लिया फैसला

Related posts