6 महीने बाद दिल्ली में फिर हुई किसानों की एंट्री, जंतर-मंतर पर प्रदर्शन शुरू, 19 दिन तक रोज 200 किसान लगाएंगे किसान संसद

चैतन्य भारत न्यूज

26 जनवरी को दिल्ली में उग्र प्रदर्शन के बावजूद दिल्ली सरकार ने किसानों को एंट्री की इजाजत दे दी है। यह अनुमति 22 जुलाई से लेकर 9 अगस्त तक है। किसानों का प्रदर्शन शाम 5 बजे तक चलेगा। दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी ने शर्तों के साथ प्रदर्शन की मंजूरी दी है।

दिल्ली के जंतर-मंतर पर किसान प्रदर्शनकारियों द्वारा किसान संसद की शुरुआत की गई है। किसान संगठनों के मुताबिक, जबतक संसद का मॉनसून सत्र जारी रहेगा वह हर रोज़ यहां पर ऐसी किसान संसद लगाएंगे। गुरुवार सुबह सिंघु, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर से बसों में भरकर किसानों का जत्था जंतर-मंतर पर पहुंचा। दिल्ली पुलिस के द्वारा सिर्फ 200 किसानों को जंतर-मंतर पर प्रदर्शन की इजाजत दी गई है। वे जंतर-मंतर पर किसान संसद लगाएंगे। जंतर-मंतर पहुंचने के बाद किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि हम यहां पर अपनी आवाज़ उठाएंगे, विपक्ष को सदन के अंदर हमारी आवाज़ बनना चाहिए। टिकैत ने यह भी कहा कि, हम मानसून सत्र की कार्यवाही पर भी नजर रखेंगे।


प्रदर्शनकारियों के साथ मौजूद योगेंद्र यादव ने कहा कि पुलिस द्वारा एक बार फिर बसों की चेकिंग की जा रही है, जिसकी वजह से किसानों को जंतर-मंतर पहुंचने में देरी हुई है। अन्य किसान नेताओं ने कहा कि दिल्ली पुलिस और सरकार बार-बार अपने वादे से मुकर रही है और किसानों को रास्ते में परेशान कर रही है।


कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली के बॉर्डर पर जगह-जगह प्रदर्शन कर रहे किसान सिंघु बॉर्डर पर पहुंच रहे हैं। दिल्ली में जंतर-मंतर और बॉर्डर पर सिक्युरिटी बढ़ा दी गई है। पुलिस ने किसानों को इस शर्त पर प्रदर्शन की इजाजत दी है कि वो संसद तक कोई मार्च नहीं निकालेंगे।

Related posts