किसानों का ऐलान, 8 दिसंबर को भारत बंद, कांग्रेस समेत कई दलों ने दिया समर्थन

kisan andolan

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. कृषि कानून के खिलाफ चल रहा किसानों का प्रदर्शन लगातार बढ़ता ही जा रहा है। शनिवार को केंद्र सरकार और किसानों के बीच पांचवें दौर की बातचीत हुई है लेकिन कुछ फैसला नहीं लिया गया। हालांकि इससे पहले ही किसानों ने 8 दिसंबर को भारत बंद की बात कहा दी थी। खास बात यह है कि, भारत बंद को कांग्रेस और बाकी कई पार्टियों ने भी अपना साथ दिया है। बता दें, कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने 8 दिसंबर को भारत बंद का समर्थन करने का फैसला किया है।

इसके अलावा तेलंगाना की सत्ताधारी पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने भी किसानों के भारत बंद का खुला समर्थन दिया। तेलंगाना मुख्यमंत्री के. चंद्रशेकर राव ने कहा कि टीआरएस पार्टी के कार्यकर्ता इस भारत बंद में खुलकर हिस्सा लेंगे। वहीं आम आदमी पार्टी ने भी भारत बंद को लेकर अपना समर्थन दिया है। खबरों के मुताबिक, पार्टी राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल के आह्वान पर सभी राज्यों में AAP के कार्यकर्ता किसानों के भारत बंद के समर्थन में उतरेंगे। बता दें, दूसरे राज्यों के किसानों ने भी भारत बंद के लिए अपना समर्थन दिया है। कर्नाटक के किसानों ने भी इस आंदोलन के लिए अपना समर्थन जाहिर किया है।

क्यों हो रहा है प्रदर्शन?
प्रदर्शन कर रहे किसानों की मांग है कि इस सरकार नए कृषि कानून को वापस लें, किसानों ने इसे काला कानून करार दिया है। किसान तीन नए कानून- 1.मूल्य उत्पादन और कृषि सेवा अधिनियम, 2020 2. आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम, 2020 और 3.किसानों के उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) अधिनियम, 2020 का विरोध कर रहे हैं।

ये भी पढ़े..

कंगना को किसानों के खिलाफ ट्वीट करना पड़ा भारी, मिला कानूनी नोटिस

किसान आंदोलन पर गृहमंत्री अमित शाह का संदेश- सरकार तुरंत बातचीत के लिए तैयार, हर मांग पर करेंगे विचार

किसानों का आंदोलन जारी, कहा- हम 6 महीने का राशन साथ लेकर आए हैं

Related posts