पत्नी से तलाक के बाद दो पिताओं ने बच्ची को अपने पास रखने के लिए खुद को किया बेहतर मां साबित, अंत में मिली जीत

चैतन्य भारत न्यूज

घर में पति-पत्नी के बीच होने वाली आपसी विवाद के चलते बच्चों पर गहरा असर होता है। खासकर जब बात कस्टडी की आती है तो ऐसी स्थिति बच्चों को समझा पाना मुश्किल होती है। वैसे तो 7 साल से कम उम्र के बच्चों की कस्टडी मां को ही मिलती है, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि बच्चे की परवरिश मां से बेहतर कोई नहीं कर सकता। लेकिन हाल ही में जो दो मामले सामने आए हैं वो इसके विपरीत हैं।

मध्यप्रदेश में दो ऐसे मामले सामने आए हैं, जिसमें मां से ज्यादा पिता बच्चे को लेकर गंभीर और संवेदनशील दिखाई दिए हैं। कोर्ट ने भी यह माना कि मां से ज्यादा पिता में बच्चे को लेकर संवेदनशीलता देखी गई है। हालांकि, पिता को बच्चे के प्रति अपनी संवेदनशीलता और बेहतर परवरिश करने की क्षमता दिखाने के लिए कई प्रमाण जुटाने पड़े, इसके लिए पिता ने बहुत मेहतन की और काफी परेशानी उठाई। इसके अलावा पुरुषों के हितों के लिए काम करने वाली दो संस्थाओं ने इन पिताओं को कानूनी सहायता उपलब्ध कराई और बच्चों की कस्टडी दिलाने में मदद की।

पहला मामला

2018 में दंपत्ति की शादी हुई। पत्नी मैरिज ब्यूरो चलाती थी। कुछ दिनों बाद पति को पता चला कि पत्नी लड़के वालों से ज्यादा पैसे लेकर शादी कराती है। इस बात पर दोनों पति-पत्नी के बीच झगड़ा होने लगा और एक महीने के बाद दोनों अलग हो गए। पति के मुताबिक, पत्नी बच्ची को पीटती थी, इसके लिए पति ने पुरुष हेल्पलाइन पर शिकायत की और सबूत जुटाए। पति ने सेंधवा एसडीएम के सामने साबित किया कि वो मां से बेहतर बच्ची की देखभाल कर सकते हैं और इस आधार पर कोर्ट ने बच्ची की कस्टडी पिता को दे दी।

दूसरा मामला

वहीं दूसरे मामले में, पति ने बताया कि उन्होंने साल 2013 में शादी की, उनकी दो साल की बेटी है। पति को बाद में पता चला कि पत्नी का विवाह के बाद किसी और के साथ संबंध है तो उसने पत्नी को खूब समझाया लेकिन वो नहीं मानी। पत्नी ने पति पर कई केस लगा दिए और बच्ची को लेकर मायके चली गई। पति ने मायके में बच्ची के साथ हो रही क्रूरता के सबूत जुटाए और फैमिली कोर्ट में पेश किए। जब काउंसलर ने बेटी से पूछा कि किसके साथ रहना चाहती हो तो बच्ची ने जवाब दिया कि पिता के साथ। इस पर भी कोर्ट राजी हो गया और बच्ची की कस्टडी पिता को मिल गई।

Related posts